किसान भाईयों के लिए — रबी की फसल कटाई, गुढ़ाई, निराई से पूर्व इन बातों का रखें खास ध्यान, यह है कृषि वैज्ञानिकों की सलाह…..

उत्तराखंड/सीएनई न्यूज। देश में कोविड-19 वाइरस के फैलने के साथ ही इस महामारी रूपी खतरे ने पर्वतीय क्षेत्रों में भी अपने पैर पसारने शुरू कर…

उत्तराखंड/सीएनई न्यूज। देश में कोविड-19 वाइरस के फैलने के साथ ही इस महामारी रूपी खतरे ने पर्वतीय क्षेत्रों में भी अपने पैर पसारने शुरू कर दिये हैं, जहां रबी फसलें या तो पक गई या फिर पकने को तैयार हैं। इन फसलों की कटाई, गहाई एवं उनके बाजार तक पहुॅंचाने का काम वांछनीय है, क्योंकि कृषि कार्य में समय की बाध्यता अत्यंत महत्वपूर्ण है। अतः किसानों को कोविड-19 वाइरस से सम्बधित भारत सरकार द्वारा जारी सभी सावधानी एवं सुरक्षा दिशा-निर्देशों का पालन करना बहुत ही जरूरी है ताकि इससे महामारी का फैलाव ना हो सके।

  1. फसलों की हाथ से कटाई/तुड़ाई, गहाई/मड़ाई, सफाई, सुखाई, छंटाई, ग्रेडिंग, तथा पैकेजिंग के दौरान बेहतर होगा कि कार्यरत सभी व्यक्तियों/श्रमिकों वे चेहरे पर मास्क पहनकर ही काम करें। मॉस्क से वायु-कण एवं धूल-कण से भी बचा जा सकेगा और श्वास संबंधित तकलीफों से दूर रहा जा सकेगा।
  2. किसानों को खेती के प्रत्येक कार्य के क्रियान्वयन के पहले, कार्य के दौरान एवं कार्य के उपरांत व्यक्तिगत स्वच्छता एक दूसरे से सामाजिक दूरी (दो श्रमिकों के बीचे 4-5 फीट की दूरी) बरकरार रखते हुए काम करना बहुत ही आवश्यक है।
  3. सुरक्षा हेतु पूरे कपड़े पहनना एवं कृषि कार्यों में लगे संयंत्रों एवं उपकरणो को कार्य पूर्व तथा कार्यों के दौरान साफ (सेनेटाईज) किया जाना चाहिए। कृषि कार्यां के बीच-बीच में साबुन से हाथ धोते रहे।
  4. एक ही दिन अधिक श्रमिकों को कार्य में लगाने के बजाए उस कार्य को अवधि/दिनों में बांट दिया जाए तथा खेतों में काम अंतराल में किया जाए।
  5. जहाँ तक संभव हो परिचित व्यक्ति को ही कृषि कार्यों में लगाएं। किसी अनजान श्रमिक को खेत मेें कार्य से रोकें ताकि वह इस महामारी का कारण न बन सके।
  6. खलिहानों में तैयार फसलों एवं उत्पादों को छोटे-छोटे ढेरों में इकट्ठा करें, जिनकी आपस में दूरी 3 से 4 फीट हो। साथ ही प्रत्येक ढेर पर 1-2 व्यक्ति को ही कार्य पर लगाना चाहिए तथा भीड़ इकट्ठा करने से बचना चाहिए। साथ ही साथ बोरों तथा अन्य पैकेजिंग सामग्रियों को भी साफ (सेनेटाईज) किया जाना चाहिए।