Almora Special: अब कृषि व उद्यान महकमे करेंगे सिंचाई व्यवस्था के कार्यों का सत्यापन, जिले में 142 फल व सब्जी उत्पादक क्षेत्रों को चौकस सिंचाई इंतजाम की दरकार

— डीएम वंदना सिंह ने की नई पहल, सर्वे कराई— सिंचाई महकमे को आगणन बनाने के दिए निर्देशचन्दन नेगी, अल्मोड़ाजिले में सब्जी एवं फल उत्पादक…

— डीएम वंदना सिंह ने की नई पहल, सर्वे कराई
— सिंचाई महकमे को आगणन बनाने के दिए निर्देश
चन्दन नेगी, अल्मोड़ा
जिले में सब्जी एवं फल उत्पादक क्षेत्रों में अब सिंचाई के पुख्ता इंतजाम होगा। ऐसी पहल जिलाधिकारी वंदना सिंह ने की है। सर्वे में पाया है कि जिले 142 फल एवं सब्जी उत्पादक क्षेत्रों में सिंचाई व्यवस्था चौकस करने की जरूरत है। डीएम की पहल में खास बात ये है कि सिंचाई व्यवस्था के जो कार्य होंगे, उनका सत्यापन कृषि और उद्यान विभाग करेंगे।

दरअसल, जिलाधिकारी वंदना सिंह ने उद्यान विभाग से जनपद में फल व सब्जी उत्पादक क्षेत्रों का सर्वे कराया गया है। इसके बाद इन क्षेत्रों में सिंचाई की स्थिति की रिपोर्ट तलब की गई। यह आख्या जिला उद्यान अधिकारी से निरीक्षण उपरांत मांगी गई। सर्वे के उपरांत प्रस्तुत रिपोर्ट में उद्यान विभाग ने जनपद में 142 ऐसे क्षेत्र चिन्हित किये गये हैं, जहां फल एवं सब्जी उत्पादन होता है, लेकिन वहां सिंचाई व्यवस्था कमजोर है। वहां सिंचाई के लिए कार्य किये जाने की जरूरत है। इनमें 142 क्षेत्रों में से विकासखण्ड हवालबाग 12, ताड़ीखेत 12, द्वाराहाट 03, धौलादेवी 15, ताकुला 16, भिकियासैण 12, लमगड़ा 21, सल्ट 16, स्याल्दे 11, भैंसियाछाना 10 एवं चौखुटिया में 14 क्षेत्र शामिल हैं।

जिलाधिकारी ने अब चिह्नित क्षेत्रों की सिंचाई एवं लघु सिंचाई महकमे को निर्देश दिए हैं कि उक्त चिह्नित क्षेत्रों का स्थलीय निरीक्षण किया जाए और सिंचाई गूलों एवं नहरों की होने वाले मरम्मत, जीर्णोद्धार व पुनर्निर्माण कार्य का आगणन प्रस्तुत किया जाए। इसके लिए अगले 15 दिनों का वक्त दिया गया है। इस आगणन के बाद सिंचाई क्षेत्रों में धनराशि की व्यवस्था करते हुए जरूरत के अनुसार कार्य करवाए जाएंगे। खास बात ये है कि इन कार्यों का सत्यापन अब कृषि एवं उद्यान विभाग से कराया जायेगा।

इस विषय में जिलाधिकारी वंदना सिंह ने बताया कि सब्जी व फल उत्पादक क्षेत्रों में सिंचाई व्यवस्था पर प्राथमिकता से ध्यान दिया जा रहा है। सिंचाई नहरों व गूलों में होने वाले मरम्मत व पुनर्निर्माण के कार्यों का सत्यापन कृषि तथा उद्यान विभाग से ही कराया जाएगा। इस पहल से सब्जी व फल के अच्छे उत्पादक क्षेत्रों में सिंचाई की समस्या से निजात मिलेगी, ताकि वहां पर उत्पादन में बेहतरी आएगी।