Almora News: थपलिया व खोल्टा की विद्युत की व्यवस्था में छेद, कड़ी सर्दी में बिजली कटौती से चिढ़ा रहा महकमा, उपभोक्ताओं में आक्रोश

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ाजहां एक ओर जबर्दस्त सर्दी से जनजीवन प्रभावित है, वहां विद्युत महकमा घंटों बिजली कटौती कर लोगों की दुश्वारियां बढ़ा रहा है। यहां…


सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा
जहां एक ओर जबर्दस्त सर्दी से जनजीवन प्रभावित है, वहां विद्युत महकमा घंटों बिजली कटौती कर लोगों की दुश्वारियां बढ़ा रहा है। यहां तल्ला खोल्टा, लोअर माल रोड और थपलिया के वाशिंदे विद्युत विभाग की अनदेखी से खफा है। हालत ये है कि सुबह होते ही बिजली कटौती आए दिन हो रही है। न तो लोग विद्युत चालित उपकरणों का इस्तेमाल कर पा रहे हैं और न ही विद्युत पर आधारित अन्य कार्य। इन क्षेत्रों में दिनभर बिजली की आंखमिचौली चल रही है।

सामाजिक कार्यकर्ता संजय पांण्डे ने गत दिवस विद्युत वितरण खंड के अधिशासी अभियंता से उनके कार्यालय में मुलाकात की और उन्हें थपलिया मोहल्ले आए दिन हो रहे विद्युत संकट से अवगत कराया। समस्या ये है कि एक तो बिजली समय—समय पर गुल हो रही है और दूसरा बार—बार वोल्टेज अप—डाउन हो रही है। जिससे लोगों के विद्युत उपकरण फुंक रहे हैं। कई लोगों के विद्युत उपकरण फुंक चुके हैं। कई बार घंटों के लिए बिजली गुल हो रही है। उन्होंने कहा कि इससे आम उपभोक्ता सर्दी के मौसम में बेहद परेशान हैं और क्षेत्र में विद्युत चालित छोटे—मोटे रोजगार प्रभावित हो रहा है। साथ ही विद्या​र्थियों की पढ़ाई बाधित हो रही है।

श्री पांडे ने लापरवाही की यह शिकायत भी की कि अक्सर विद्युत दिक्कत संबंधी कोई सूचना देने के लिए जब फोन किया जाता है, तो अक्सर संबंधित कर्मचारी फोन रिसीव नहीं कर हैं और अधिकारियों के फोन स्विच ऑफ हो जाते हैं। उन्होंने इस समस्या से निजात के लिए एक कंट्रोल रूम स्थापित करने का सुझाव भी दिया। उन्होंने अधिशासी अभियंता से समस्या का ठोस समाधान करने का अनुरोध किया।
उक्त के अलावा लोअर माल रोड में खोल्टा इलाके में सुबह—सुबह आए दिन बिजली गुल हो रही है। फिर घंटों तक बहाल नहीं होती और जब बहाल होती है, तो फिर 15 से 30 मिनट के अंतराल में बिजली का आने—जाने का क्रम शुरू हो जाता है। जो दिनभर रहता है। इस समस्या से विद्युत महकमे के प्रति लोगों में कड़ा गुस्सा पनप रहा है। लोगों का कहना है कि कभी—कभार लाइन में काम होने से व्यवधान आना स्वावभाविक है, लेकिन रोज—रोज की समस्या महकमे की व्यवस्था में छेद होना इंगित करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *