Breaking News : Black fungus से जूझ ही रहा है देश कि आ गई ‘व्हाइट फंगस’ की नई बला, गाजियाबाद के अस्पताल में एक साथ आये White fungus के 7 केस

सीएनई रिपोर्टर कोरोना के बाद जहां पूरा देश अब ब्लैक फंगस से जूझ रहा है, वहीं अब व्हाइट फंगस ने भी परेशान करना शुरू कर…

सीएनई रिपोर्टर

कोरोना के बाद जहां पूरा देश अब ब्लैक फंगस से जूझ रहा है, वहीं अब व्हाइट फंगस ने भी परेशान करना शुरू कर दिया है। आज गाजियाबाद के एक ही अस्पताल में 07 मरीज इस बीमारी से ग्रसित आये हैं। चिंताजक पहलू तो यह है कि ब्लैक फंगस जहां अधिकांशत: कोरोना संक्रमितों में पाया जा रहा है, वहीं यह नई बला व्हाइट फंगस आम स्वस्थ आदमी को अपना निशाना बना रहा है।

इन सभी मरीजों के टिशू जांच के लिए भेजे गये थे, आज जब रिपोर्ट आई तो पता चला इन्हें व्हाइट फंगस ने संक्रमित कर दिया है।

Uttarakhand : सोशल मीडिया पर चल रहा गंदा खेल ! Honey trapping से रहें सावधान, अंजान महिला से दोस्ती पड़ सकती है भारी

छह मरीजों का उपचार अब अस्पताल में तो एक मरीज का इलाज घर से चल रहा है। मरीजों के उपचार से जुड़े डॉ. बीपी त्यागी ने बताया कि इस बीमारी को एसपरजिलोसिस (कैंडिडा) भी कहते हैं। यह खून के जरिए शरीर के लगभग हर अंग के प्रभावित करता है। 

रोचक : यहां सरेआम बिकी Corona की जादुई ‘आयुर्वेदिक दवा’ ! दस हजार से अधिक की उमड़ पड़ी भीड़ और खत्म हो गया पूरा stock, रोकने के बजाए दवा पर Research करने में जुटा है सरकारी अमला….

यह नाखुन, स्किन, पेट, किडनी, ब्रेन, मुंह के साथ फेफड़ों को प्रभावित कर सकता है। इतना ही नहीं प्राइवेट पार्ट को भी यह संक्रमित कर सकता है। इस बीमारी से संक्रमित शख्स का कोरोना वायरस से संक्रमित होना जरूरी नहीं है, लेकिन अस्पताल में भर्ती सभी मरीज पोस्ट कोविड के बाद संक्रमित हुए हैं। सभी डायबिटिक हैं।

उत्तराखंड, अच्छी ख़बर : नए संक्रमितों की संख्या में आई गिरावट, मरने वालों की भी संख्या कम, 8 हजार 164 लोगों ने जीत ली कोरोना से जंग

अलबत्ता डॉक्टर इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं कि शूगर के मरीजों में व्हाइ्ट फंगस के अधिक मामले देखे जा रहे हैं। आने वाले समय में यह व्हाइट फंगस किस स्वरूप में पहुंचेगा और कितना घातक होगा यह तो समय ही बतायेगा, लेकिन इतना जरूर है कि इस नई बीमारी ने भी अपना फैलाव बढ़ाना शुरू कर दिया है।

हालांकि Experts का कहना है कि यह ब्लैकं फंगस के जितना खतरनाक नहीं है। सही समय पर इसे पहचान कर doctor के पास चले जाएं, इसको लिए शीघ्र इलाज जरूरी है जो एक से डेढ़ महीने चल सकता है। एलएनजेपी में काम करने वाले डॉक्टर सुरेश कुमार कहते हैं, व्हाइट फंगस (Aspergillosis) ब्लैग फंगस जितना खतरनाक नहीं है।

डॉक्टर कहते हैं, “यह फंगस तंग और नम जगहों पर उगता है इसलिए सुनिश्चित करें कि आपके आस-पास नियमित रूप से सफाई हो। कई दिनों तक फ्रिज में रखी खाने की चीजों का सेवन करने से बचें, ताजे फल खाएं, अपने घर में धूप आने दें और अपने मास्क को रोजाना धोएं।”

Breaking : अल्मोड़ा में आज शनिवार को मिले 127 नए संक्रमित

अब उत्तराखंड में भी Black fungus माहमारी घोषित, शासन ने जारी किये दिशा-निर्देश, अब तक हो चुकी हैं 05 मौतें

Delhi में अचानक रोक दिया गया 18 प्लस का टीकारण, बोले केजरीवाल खत्म हो गई केंद्र से भेजी डोज

उत्तराखंड : कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारियां शुरू, इस Hospital में तैयार हुआ बच्चों के लिए 55 Oxygen bed hospital, 90 बेड बढ़ाने पर चल रहा काम

हमारे WhatsApp Group को जॉइन करें 👉 Click Now 👈

कोरोना की दूसरी लहर में 420 डॉक्टरों की मौत – IMA

बड़ी ख़बर : कोरोना मरीजों के Life-saving के रूप में बहु प्रचारित ‘रेमडेसिवर’ को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने किया Protocol list से बाहर