उत्तराखंड : 01 अप्रैल से महंगी होगी बिजली ! जानिए क्या कहता है आयोग

CNE DESK/ प्रदेश में एक बार फिर बिजली के दामों में बढ़ोत्तरी होने जा रही है। कयास लगाए जा रहे हैं कि अगले माह के…

अप्रैल से महंगी होगी बिजली

CNE DESK/ प्रदेश में एक बार फिर बिजली के दामों में बढ़ोत्तरी होने जा रही है। कयास लगाए जा रहे हैं कि अगले माह के प्रथम सप्ताह से बिजली के दामों में बढ़ोत्तरी की घोषणा हो सकती है। उत्तराखंड विद्युत नियामक आयोग (UERC) 22 मार्च के बाद बढ़ी हुई दरों को जारी करने जा रहा है। जिसके बाद संभव है कि 01 अप्रैल, 2023 से नई बढ़ी हुई विद्युत दरें प्रदेश में लागू हो जायें।

12 फीसदी तक बढ़ सकती है दर

उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड प्रदेश में 01 अप्रैल से बिजली की दरों में 12 फीसदी की बढ़ोत्तरी की संभावना है। विद्युत दरों में बढ़ोत्तरी से बीपीएल, घरेलू, व्यावसायिक तमाम उपभोक्ता प्रभावित होंगे। यहां त​क कि स्ट्रीट लाइट की दरों में भी इस बढ़ोत्तरी का असर दिखाई देगा। बढ़ोतरी से प्रदेश के 27.50 लाख 872 उपभोक्ता प्रभावित होने जा रहे हैं।

नियामक आयोग के समक्ष रखे गए प्रस्ताव

उत्तराखंड पावर कारपोरेशन लिमिटेड (UPCL) ने नियामक आयोग के सामने बिजली दरों में 16.96 प्रतिशत, यूजेवीएनएल Uttarakhand Jal Vidyut Nigam Ltd (UJVN Ltd.) ने करीब 2.43 प्रतिशत, और पिटकुल (Power Transmission Corporation of Uttarakhand Ltd) ने 9.27 प्रतिशत बढ़ोतरी का प्रस्ताव नियामक आयोग के समक्ष रखा था।

सूत्र पुष्टि कर रहे, आधिकारिक घोषणा बाकी

सूत्र बता रहे हैं कि UERC ने बैठक में तमाम प्रस्तावों पर मंथन करने के उपरांत निर्णय लिया है। तय हुआ है कि नियामक आयोग यूपीसीएल के टैरिफ में करीब 12 फीसदी बढ़ोतरी करेगा। बावजूद इसके इस संबंध में समाचार लिखे जाने तक आधिकारिक घोषणा नहीं हो पाई है। समझा जा रहा है कि नियामक आयोग 23 मार्च को नई दरें जारी कर देगा। इसके बाद यह बढ़ी हुई दरें उत्तराखंड में 01 अप्रैल से लागू हो जाएंगी।

फिक्स चार्ज को लेकर हो सकता है अहम फैसला

हालांकि बिजली मीटर के फिक्स चार्ज को लेकर संशय बरकरार है। जन सुनवाई में तमाम उपभोक्ताओं ने फिक्स चार्ज में बढ़ोत्तरी का भारी विरोध किया था। संभव है कि नियामक आयोग फिक्स चार्ज को लेकर उपभोक्ताओं की पीड़ा समझेगा। ज्ञात रहे कि उत्तराखंड प्रदेश में एक दौर ऐसा भी था जब कोई फिक्स चार्ज बिजली उपभोक्ताओं को नहीं देना होता था। साल 2003 से 2008 के बीच ऐसा कोई चार्ज नहीं वसूला गया था। मौजूदा समय में यह fixed charge 18 रुपये प्रति किलोवाट (per kilowatt) से लेकर 430 रुपये तक है। इधर उत्तराखंड विद्युत नियामक आयोग (Uttarakhand Electricity Regulatory Commission) के सचिव नीरज सती के मुताबिक नियामक आयोग की बैठक में कई विषयों पर विचार-विमर्श हुआ है। टैरिफ में बढ़ोत्तरी को लेकर 22 मार्च के बाद ही कुछ कहा जायेगा। चूंकि 23 मार्च को नया टैरिफ जारी होगा।

नवरात्रि में करें यह उपाय, देवी मां की बरसेगी कृपा