बागेश्वर: 110 साल पुराने पुल पर फिलहाल आवागमन बंद ही रहेगा

👉 सीआरआरआई की टीम ने किया निरीक्षण, सेंपल लिये👉 जांच रिपोर्ट के बाद ही लिया जा सकेगा कोई निर्णय सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: सरयू नदी पर…

110 साल पुराने पुल पर फिलहाल आवागमन बंद ही रहेगा

👉 सीआरआरआई की टीम ने किया निरीक्षण, सेंपल लिये
👉 जांच रिपोर्ट के बाद ही लिया जा सकेगा कोई निर्णय

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: सरयू नदी पर बना 110 साल पुराना झूला पुल फिलहाल आवाजाही के लिए नहीं खुल पाएगा। जांच रिपोर्ट के अध्ययन के बाद ही इस संबंध में निर्णय लिया जा सकेगा। इसी सिलसिले में सीआरआरआई की टीम ने इस पुल का निरीक्षण किया। मालूम हो कि जिला प्रशासन ने इस पुल को करीब एक साल से आवागमन के लिए बंद किया है।

सन् 1913 में बना यह झूला लगभग एक साल से आवागमन के लिए जिला प्रशासन ने बंद किया है। गुरुवार को दिल्ली से तकनीकी टीम ने पुल का निरीक्षण कर कुछ जगह के सेम्पल लिए है। जो दिल्ली जाकर उसकी जांच कर अपनी रिपोर्ट देंगे। रिपोर्ट आने के बाद कि तह होगा कि पुल की मरम्मत होगी या आवागमन के लिए खुलेगा। अंग्रेज शासनकाल में सरयू नदी पर बना झूला पुल 110 वर्ष का हो गया है। बीते वर्ष उत्तरायणी मेले के दौरान से यह पुल आवागमन के लिए जिला प्रशासन द्वारा बन्द कर दिया गया था। जिस कारण स्थानीय नागरिकों एवं व्यापारियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कुछ दिन पूर्व कांग्रेस व व्यापारियों द्वारा प्रदर्शन करने के बाद जिला प्रशासन व विभाग हरकत में आया।

जिला प्रशासन की पहल पर गुरुवार को केंद्रीय सड़क अनुसंधान दिल्ली के दो सदस्यीय टीम ने पुल की बारीकियों से निरीक्षण कर जगह जगह से सैम्पल एकत्रित किये। जो दिल्ली जाकर एक्सपर्ट टीम की सलाह के बाद अपनी रिपोर्ट देंगे। यह पुल कत्यूर बाजार से दुग बाजार को जोड़ता है।लोनिवि के अधिशासी अभियंता धन सिंह कुटियाल ने बताया कि सीआरआरआई दिल्ली के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. राजीव गोयल व वरिष्ठ तकनीकी वैज्ञानिक डॉ. एसके वर्मा ने पुल की बारिकी से निरीक्षण किया तथा कुछ चीजें जांच के लिए अपने साथ ले गए है। उनके एक्सपर्ट टीम की रिपोर्ट आने के बाद पुल की मरम्मत आदि के बारे में निर्णय लिया जाएगा। फिलहाल पुल आवागमन के लिए बन्द रहेगा।