अल्मोड़ा में पौराणिक नंदादेवी मेले की धूम, माहौल नंदामय

👉 धूमधाम से लाए गए केले के खाम, मूर्तियों का निर्माण👉 हास्य कलाकारों ने गुदगुदाया, नाटक ने बटोरी तालियां सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा: नगर में ऐतिहासिक…

अल्मोड़ा में पौराणिक नंदादेवी मेले की धूम, माहौल नंदामय

👉 धूमधाम से लाए गए केले के खाम, मूर्तियों का निर्माण
👉 हास्य कलाकारों ने गुदगुदाया, नाटक ने बटोरी तालियां

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा: नगर में ऐतिहासिक एवं पौराणिक मां नंदा देवी मेले की धूम मची है। आज तीसरे रोज मां नंदा की पूजा अर्चना के बाद फलसीमा से शोभायात्रा की शक्ल में मां के जयकारों व भजनों के बीच भक्त कदली वृक्ष लेकर आए। कदली वृक्षों से अब मां नंदा—सुनंदा की मूर्तियों का निर्माण हुनरमंद कलाकारों ने किया। दोपहर हास्य कलाकारों ने श्रोताओं को लोटपोट किया, तो वहीं जामीर थिएटर ग्रुप, अल्मोड़ा के नाटक ‘चरणदास चोर’ ने दर्शकों की तालियां बटोरी।

निर्धारित कार्यक्रमानुसार आज सूर्योदय से पहले नन्दादेवी मंदिर से फलसीमा सूबेदार जसवंत सिंह के आवास तक मन्दिर समिति के पदाधिकारी एवं बड़ी संख्या में श्रद्धालु ढोल नगाड़ों, छोलिया नृतकों के साथ गए। इसमें कुमाऊंनी परिधान में सजधज कर कलश के साथ कई महिलाएं भी शामिल रहीं। यह दल मां के भजन गाते व जयकारे लगाते फलसीमा पहुंंचे। जहां चंद वंशज के राज पुरोहित नागेश पंथ, मुख्य पुजारी तारा दत्त जोशी, पुजारी प्रमोद पाठक व विनोद जोशी ने कदली वृक्षों की विधिवत पूजा की। इसके उपरांत कदली वृक्षों को शोभायात्रा की शक्ल में एनटीडी, एलआर साह रोड, ड्योढ़ी पोखर, थाना बाजार, गंगोला मौहल्ला, जौहरी बाजार, कारखाना बाजार, चौक बाजार, लाला बाजार होते हुए नन्दा देवी मंदिर में लाया गया। इसके बाद इन कदली वृक्षों से नंदा देवी मंदिर में मां नंदा सुनंदा की मूर्ति निर्माण स्थानीय कलाकारों ने किया। जिनमें कदली वृक्ष समेत वस्त्र, रिंगाल, कुमकुम, पिठ्या आदि चीजों का इस्तेमाल हुआ। मूर्ति बनाने वालों में सह संयोजक मूर्ति निर्माण रवि गोयल, सीपी वर्मा, देवेंद्र जोशी, शैलेंद्र वर्मा, रक्षित शाह, रवि कननौजिया आदि शामिल रहे। कदली वृक्ष लाने वाले श्रद्धालु दल में मनोज सनवाल, अनूप शाह, मुन्ना वर्मा, एलके पंत, सीपी वर्मा, जीवन नाथ वर्मा, किशन गुरुरानी, अमरनाथ सिंह नेगी, ललित मोहन शाह, राजेंद्र बिष्ट, अर्जुन बिष्ट (चीमा), राजकुमार बिष्ट, कुलदीप मेर, हरीश बिष्ट, महेंद्र बिष्ट, संतोष मिश्रा, रवि गोयल, देवेंद्र जोशी, रवि कनौजिया, संजय शाह, सुमित शाह, नमन बिष्ट, वैभव पांडे, अरविंद जोशी, दीक्षित शाह, ईशान शाह, कार्तिक जोशी, मारुत शाह, संचित वर्मा, योगेश जोशी, कमल बिष्ट, नामित जोशी, मीना भैंसौड़ा, गंगा पांडे, गंगा जोशी, चंपा पांडे, भगवती डोगरा, सुंदरी खड़ाई, भावना भट्ट, इंदिरा बिष्ट, कमल भट्ट, सरस्वती ठाकुर, प्रभात डंगवाल, मोहनी रावत, बसंती नेगी, उमा बिष्ट एवं मुन्नी पाटनी सहित अनक श्रद्धालु शामिल रहे।
हास्य से दर्शक लोटपोट

दोहपर मंदिर परिसर में स्थित मंच पर तय कार्यक्रमानुसार हास्य व्यंग (लाफ्टर शो) आयोजित हुआ। जिसमें वरिष्ठ हास्य रंगकर्मी आनंद वल्लभ भट्ट, रमेश लाल, नारायण थापा, अमर सिंह बोरा, ललित मोहन बिष्ट एवं चंद्रशेखर आर्य ने अपने हास्य व्यंगों से दर्शकों को लोटपोट किया, वहीं हिमांशु कांडपाल ने बॉलीवुड के नामचीन फिल्मी कलाकार गोविंदा का अभिनय करके श्रोताओं का मनोरंजन किया।
‘चरणदास चोर’ ने बटोरी तालियां

जामीर थिएटर ग्रुप, अल्मोड़ा ने हबीब तनवीर द्वारा लिखित हास्य नाटक “चरणदास चोर” की प्रस्तुति नरेश बिष्ट के निर्देशन में की। नाटक की टीम में संस्था संचालक उमाशंकर ‘मैडी’, यश नेगी, संजय कुमार, रिया तिवारी, काजल मेहरा, सतीश साह, कमल केवट, कार्तिक भट्ट, पंकज भगत, जयदीप पांडे, आदित्य गुरुरानी, आयुषी पांडे व गीतिका रावत आदि कलाकार शामिल रहे। इनकी प्रस्तुति ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया और तालियां बटोरी। कार्यक्रम की अध्यक्षता समिति के अध्यक्ष मनोज वर्मा एवं संचालन वरिष्ठ रंगकर्मी नवीन बिष्ट ने किया। समिति ने कलाकारों को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस मौके पर समिति के मुख्य सांस्कृतिक संयोजक ताराचंद जोशी, डॉ. निर्मल जोशी, हरीश कनवाल, चंद्र वंशज के राजा भैया आदि अनकों गणमान्य उपस्थित रहे।