बागेश्वर: बारिश ने बनाया रिकार्ड, नाले उफने, पेड़ गिरे और सड़कें बाधित

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: सोमवार की रात बागेश्वर विकासखंड में 47 एमएम वर्षा रिकार्ड की गई। नदी और गधेरे उफन आए। जगह-जगह पेड़ गिर गए। जिससे…

हिमालयी क्षेत्रों में बारिश, पारा गिरा, सर्दी बढ़ी

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: सोमवार की रात बागेश्वर विकासखंड में 47 एमएम वर्षा रिकार्ड की गई। नदी और गधेरे उफन आए। जगह-जगह पेड़ गिर गए। जिससे यातायात प्रभावित रहा। सुबह पांच बजे तक वर्षा हुई। कपकोट और गरुड़ में 25-25 एमएम वर्षा रिकार्ड की गई, जबकि लीती में सबसे अधिक 66 प्रतिशत बारिश रिकार्ड की गई। तीन सड़कें यातायात के लिए अभी भी बंद हैं।

अतिवृष्टि और तेज हवाओं के कारण डीडीओ आवास के आंगन पर खड़े वाहन पर विशालकाय पेड़ गिर गया। वहां रहने वाले लोग भयभीत हो गए। हालांकि अन्य कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ। गरुड़ मोटर मार्ग पर मोटासिमल के समीप विशालकाय पेड़ गिरने से यातायात प्रभावित रहा। प्रभारी अग्निशमन अधिकारी गणेश चंद्र ने बताया कि त्वरित कार्रवाई की गई। डीडीओ के आवास पर गिरे पेड़ को हटाया। वहीं, बारिश के कारण धान की फसल को नुकसान की संभावना है। उद्यानीकरण को भी झटका पहुंचा है। किसानों के अनुसार बीज बोए थे और वह अधिक वर्षा से खराब हो गए हैं। इधर, जिला आपदा अधिकारी शिखा सुयाल ने बताया कि तहसीलों से अन्य नुकसान की पुष्टि नहीं है।