कपकोट के उच्च हिमालयी पहाड़ियां बर्फ से ढकीं

👉 अल्मोड़ा व बागेश्वर में बदले मौसम के मिजाज👉 बारिश, बर्फ व सर्द हवाओं ने गिराया पारा सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा/बागेश्वर: अल्मोड़ा व बागेश्वर जिलों में…

कपकोट के उच्च हिमालयी पहाड़ियां बर्फ से ढकीं

👉 अल्मोड़ा व बागेश्वर में बदले मौसम के मिजाज
👉 बारिश, बर्फ व सर्द हवाओं ने गिराया पारा

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा/बागेश्वर: अल्मोड़ा व बागेश्वर जिलों में रविवार रात से मौसम ने अचानक करवट बदल ली। जहां अल्मोड़ा जिले में रविवार रात व आज तड़के और शाम हल्की फुहारें पड़ी, वहीं बागेश्वर जिले की कपकोट तहसील के उच्च हिमालयी क्षेत्र लीती, गोगिना, शामा आदि क्षेत्र में मौसम की पहली बर्फबारी हुई है। कपकोट, भराड़ी, शामा व दुग-नाकुरी क्षेत्र में हल्की बूंदाबांदी हुई। बर्फबारी व हल्की बारिश से एक बार फिर तापमान में गिरावट दर्ज हुई है। हांलाकि किसानों को अभी भी अच्छी बारिश की दरकार है।

अल्मोड़ा: आमतौर पर गत रविवार को जिले में अच्छी व चटक धूप खिली और लोगों ने गुनगुनी धूप का आनंद उठाया। मगर रात मौसम ने करवट बदल ली और आसमान बादलों से पट गया। देखते ही देखते सर्द हवाओं के साथ रात ही बारिश की हल्की फुहारें पड़ी। कुछ समय शांत रहने के बाद तड़के फिर हल्की बारिश हुई। इसके बाद सुबह धूप खिल आई। अपराह्न तक लोगों ने धूप का लुत्फ उठाया, मगर इसके बाद फिर आकाश बादलों से घिर आया और अभी शाम हल्की बारिश हुई। बारिश से तापमान में गिरावट आ गई और शीत का प्रकोप चल पड़ा है।

बागेश्वर: मालूम हो कि जिले में एक सप्ताह के भीरत दूसरी बार मौसम का मिजाज बदला है। इससे पहले 27 व 28 नवंबर को भी मौसम इसी तरह का रहा। सोमवार की सुबह करीब चार बजे से छह बजे कपकोट के उच्च हिमालयी क्षेत्र लोहारखेत, चिल्ठा, खलधार आदि क्षेत्र में बर्फबारी हुई। इस दौरान निचले क्षेत्र में बारिश हुई। आठ बजे के बाद से मौसम फिर से साफ हो गया और धूम निकल आई। बर्फबारी व बारिश के चलते सुबह के समय तापमान में गिरावट दर्ज हुई। धूप निकलने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली। बारिश शुरू होते ही किसानों के चेहरे खिल गए थे, लेकिन जैसे ही धूप खिली किसान चिंतित दिखने लगे। उन्हें अच्छी बारिश की दरकार है। प्रगतीशील किसान प्रताप सिंह गड़िया, सुरेश पांडेय, प्रेमलता खाती आदि का कहना है कि बारिश होगी तो रबी की फसल बेहतर होगी साथ ही सब्जी व फल उत्पादन को भी लाभ होगा।