बागेश्वर: कार्मिकों ने नई पेंशन योजना के शासनादेश की प्रतियां जलाईं

👉 दिल्ली में पेंशन शंखनाद महारैली के समर्थन में कार्यक्रम सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: दिल्ली में चल रहे पेंशन शंखनाद महारैली के समर्थन में यहां भी…

कार्मिकों ने नई पेंशन योजना के शासनादेश की प्रतियां जलाईं

👉 दिल्ली में पेंशन शंखनाद महारैली के समर्थन में कार्यक्रम

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: दिल्ली में चल रहे पेंशन शंखनाद महारैली के समर्थन में यहां भी कर्मचारियों ने कार्यक्रम आयोजित किया​। कर्मचारियों ने सरयू तट पर नई पेंशन योंजना के शासनादेश की प्रतियां जलाईं। पुरानी पेंशन लागू करने की मांग दोहराई।

राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा के बैनर तले कर्मचारी रविवार को सरयू घाट पर एकत्रित हुए। यहां नारेबाजी के साथ अपनी मांगों का समर्थन किया। वक्ताओं ने कहा कि दिल्ली के जंतर-मंतर में प्रदेश भर के कर्मचारी धरने पर बैठे हैं। उनके समर्थन में उन्होंने भी यहां कार्यक्रम आयोजित किया है। उन्होंने कहा कि नई पेंशन योजना में कर्मचारियों का हित सुरक्षित नहीं है। 30 से 40 साल नौकरी करने के बाद उनका बुढ़ापा सुरक्षित नहीं है। पेंशन को ही बुढ़ापे की लाठी कहा जाता है। सरकार उसी लीठी से उन्हें वंचित कर रही है। कर्मचारी सरकार की इस मंशा को कतई सफल नहीं होने देंगे। इस बार पुरानी पेंशन योजना लागू करके ही दम लेंगे। सभा के बाद उन्होंने नई पेंशन योजना के शासनादेश की प्रतियां आग के हवाले की। इस मौके पर आलोक पांडेय, भुवन जोशी, कैलाश चंदोला, अनिल जोशी, जयदत्त पांडे, मनोज कुमार, राजेंद्र बिष्ट व नर सिंह मौजूद थे।