बागेश्वर: अर्थ व्यवस्था की बेहतरी ऊर्जा के बिना असंभव—पार्वती

👉 ऊर्जा संरक्षण पर गोष्ठी में बोली विधायक दास   सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: विधायक पार्वती दास ने कहा कि ऊर्जा आर्थिक विकास की मूलभूत आवश्यकता…

अर्थ व्यवस्था की बेहतरी ऊर्जा के बिना असंभव—पार्वती

👉 ऊर्जा संरक्षण पर गोष्ठी में बोली विधायक दास

 

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: विधायक पार्वती दास ने कहा कि ऊर्जा आर्थिक विकास की मूलभूत आवश्यकता है। भारतीय अर्थ व्यवस्था के सभी क्षेत्रों में बिना ऊर्जा के काम नहीं चल सकता है। ऐसे में अभी से हमें सजग होना होगा और ऊर्जा को बचाना है।

 

अतिथियों के साथ प्रतियोगिता में अव्वल रहे प्रतिभागी।

गुरुवार को राइंका सभागार पर आयोजित ऊर्जा संरक्षण को लेकर गोष्ठी में विधायक ने कहा कि कृषि, वाणिज्य, परिवहन, घरेलू आदि सभी क्षेत्रों में ऊर्जा की मांग बढ़ रही है। ऊर्जा की बढ़ती खपत से हमारी जीवाश्म ईधन पर निर्भरता लगातार बढ़ गई है। तेल, गैस की बढ़ती कीमतों और सीमित भंडार होने के कारण हमारी जीवाश्म ईधन पर निर्भरता निरंतर बढ़ रही है। जीवाश्म ईधन के प्रयोग से होने वाले पर्यावरण प्रदूषण की वजह से भावी पीढी के स्तित्व को खतरा पैदा हो गया है।

उरेडा के परियोजना अधिकारी मयंक नौटियाल ने कहा कि आज आवश्यक हो गया है कि ऊर्जा के अन्य वैकल्पिक श्रोतों पर अभी से ध्यान केंद्रित करते हुए उनके कुशलतापूर्वक उपयोग की तकनीकें विकसित की जाएं। ताकि हमारी भावी पीढ़ी के लिए समुचित ऊर्जा संसाधन उपलब्ध रहे। उन्होंने उत्तराखंड सरकार की योजनाओं की जानकारी भी प्रदान की। डायट प्रवक्ता डा. बीडी पांडे ने पावर पाइंट के माध्यम से ऊर्जा संरक्षण के महत्व की जानकारी दी।

प्रधानाचार्य दीप चंद्र जोशी ने कहा कि उरेडा प्रदेश में सौर ऊर्जा और बायोमास से विद्युत उत्पादन के कार्यक्रम कर रहा है। यदि हम अपने घरेलू आवश्यकताओं की पूर्ति ऊर्जा के अन्य वैकल्पिक ऊर्जा के साधनों से पूर्ण करने में सफल हो गए, तो ग्रिड की ऊर्जा का उपयोग हम उद्योग धंधों, विज्ञान, प्रौद्योगिकी आदि क्षेत्रों में कर सकेंगे।
अव्वल प्रतिभागी हुए पुरस्कृत

बागेश्वर: उरेडा दिवस पर निबंध, चित्रकला प्रतियोगिताएं आयोजित हुई। जिसमें अव्वल रहे प्रतिभागियों को 18 हजार रुपये नकद पुरस्कार प्रदान किए गए। राजीव नवोदय विद्यालय के विद्यार्थियों ने ऊर्जा संरक्षण दिवस पर नाटक और गीत प्रस्तुत किए।