अल्मोड़ा/बागेश्वर: शहीद स्मारक पर पुष्पचक्र अर्पित, शहीदों को दी श्रद्धांजलि

👉 विजय दिवस की 52वीं वर्षगांठ पर वीर नारियों का सम्मान सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा: जिला सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास अल्मोड़ा के तत्वाधान में विजय दिवस…

शहीद स्मारक पर पुष्पचक्र अर्पित, शहीदों को दी श्रद्धांजलि

👉 विजय दिवस की 52वीं वर्षगांठ पर वीर नारियों का सम्मान

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा: जिला सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास अल्मोड़ा के तत्वाधान में विजय दिवस की 52वीं वर्षगांठ आज शहीद स्मारक छावनी परिषद क्षेत्र अल्मोड़ा में बड़े धूमधाम से मनाई गई। इस दौरान शहीदों की स्मृति में पुष्पचक्र एवं श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। इस दौरान शहीदों के सम्मान में 2 मिनट का मौन भी रखा गया। कार्यक्रम में जिलाधिकारी विनीत तोमर ने वीर नारियों एवं सेनानियों को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया।


शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए डीएम ने कहा कि सन् 1971 के युद्ध में वीरगति को प्राप्त हुए शहीदों की शहादत को हमेशा याद रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि ऐसे वीरों को आज देश सलाम करता है, जिन्होंने अपनी जान की परवाह किए बगैर देश की रक्षा की। उन्होंने शहीद हुए सैनिकों के परिवारजनों एवं माताओं को भी नमन किया कि उन्होंने अपने सपूतों को देश सेवा के लिए कुर्बान किया। उन्होंने भारतीय सेना के हौंसले को सलाम किया। उल्लेखनीय है कि भारत एवं पाकिस्तान के बीच दिसंबर 1971 (पूर्वी पाकिस्तान बांग्लादेश) में लड़ाई लड़ी गई थी। भारतीय फौज ने 14 दिनों के भीषण युद्ध के दौरान पाकिस्तानी फौजी को पराजित किया था।


इस युद्ध के दौरान भारतीय सैनिकों ने अपने अदम्य साहस का प्रदर्शन किया। इस अभियान में वीर सैनिकों ने अपने प्राणों की आहुति दी एवं कई जवान वीरता एवं अदम्य साहस का परिचय देते हुए देश की रक्षा के लिए घायल हुए। भारतीय सेना के अदम्य साहस एवं वीरता के लिए पूरे देश में 16 दिसंबर को विजय दिवस मनाने का संकल्प लिया। कार्यक्रम में कमान अधिकारी गैरिसन अल्मोड़ा, कर्नल विनय यादव, विंग कमांडर सीएसए गुप्ता (अ. प्रा.) जिला सैनिक कल्याण अधिकारी, वीर नारियां, पूर्व सैनिक समेत अन्य उपस्थित रहे।
बागेश्वर में 06 वीर नारियां सम्मानित


बागेश्वर: जिले में विजय दिवस पर बलिदानियों को पुष्पांजलि अर्पित की गई। उन्हें श्रद्धांजलि देकर याद किया गया। विजय दिवस 1971 भारत-पाक युद्ध में भारत की विजय पर मनाया जाता है। भारत-पाक इस युद्ध में जिले 25 वीर सैनिक वीर गति को प्राप्त हुए थे। इस दारौन छह वीर नारियों को सम्मानित किया गया।

शनिवार को शहीद स्थल पर जिला पंचायत अध्यक्ष बसंती देव, जिलाधिकारी अनुराधा पाल, जिला पंचायत उपाध्यक्ष नवीन परिहार, मुख्य विकास अधिकारी आरसी तिवारी, अपर जिलाधिकारी एनएस नबियाल सहित वीर नारियों और पूर्व सैनिकों ने वीरों को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। सैनिक कल्याण अधिकारी जीएस बिष्ट ने सन् 1971 युद्ध की विस्तृत जानकारी दी और कहा कि उत्तराखंड सैनिकों का प्रदेश है। प्रदेश के सैनिकों ने देश की रक्षा के लिए हमेशा बलिदान दिया है। इस दौरान वीर नारी लछिमा देवी, पानुली देवी, पदमा देवी, कलावती देवी, चनुली देवी, मोहनी देवी को शाल भेंट कर सम्मानित किया। इस मौके पर उपजिलाधिकारी मोनिका, पुलिस उपाधीक्षक अंकित कंडारी, दरवान सिंह हरडिया, प्रताप सिंह कपकोटी, हीरा सिंह कपकोटी, मोहन सिंह, किशन सिंह मलडा, संजय साह जगाती, दलीप खेतवाल, इंद्र सिंह परिहार, हरीश सोनी, गोविंद सिंह भंडारी आदि उपस्थित थे।