बागेश्वर: दूरस्थ गांव कर्मी में जाएगी डाक्टरों की टीम, ग्रामीणों को मिलेगा स्वास्थ्य लाभ

👉 मानसिक रोग से पीड़ितों की भी होगी जांच, दिव्यांगों के बनेंगे प्रमाण पत्र👉 29 अक्टूबर को लगेगा बहुद्देश्यीय चिकित्सा शिविर, आयुष्मान कार्ड भी बनेंगे…

दूरस्थ गांव कर्मी में जाएगी डाक्टरों की टीम, ग्रामीणों को मिलेगा स्वास्थ्य लाभ

👉 मानसिक रोग से पीड़ितों की भी होगी जांच, दिव्यांगों के बनेंगे प्रमाण पत्र
👉 29 अक्टूबर को लगेगा बहुद्देश्यीय चिकित्सा शिविर, आयुष्मान कार्ड भी बनेंगे

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: मुख्य चिकित्साधिकारी डा. डीपी जोशी ने कहा कि मानसिक रोग से पीड़ित व्यक्तियों के स्वास्थ्य की जांच की जाएगी। दिव्यांगों को प्रमाणपत्र भी बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि 29 अक्टूबर को कपकोट ब्लाक के कर्मी में बहुउदेशीय शिविर आयोजित किया जाएगा।

यहां पत्रकार वार्ता में सीएमओ ने कहा कि स्वास्थ्य शिविर में नि:शुल्क जांच की जाएगी। मानसिक और शारीरिक रूप से पीड़ित व्यक्ति शिविर का लाभ उठाएं। शिविर में जिला चिकित्सालय अल्मोड़ा के मनोचिकित्सक डा. रितिका सिंह, राजकीय मेडिकल कालेज हल्द्वानी के डा. युवराज पंत मानसिक रोगियों की जांच करेंगे, जबकि हड्डी रोग विशेषज्ञ डा. आशीष परगाई, ईएनटी सर्जन कल्पना जोशी भी शिविर में रहेंगे। उन्होंने कहा कि मानसिक बीमारियां कई तरह की होती हैं। लक्षण बीमारी के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं। मानसिक बीमारियों में बाइपोलर डिसआर्डर, डिमेशिया यानी मनोभ्रंश, अल्जाइमर, पार्किसन, आटिज्म, डिस्लेक्सिया, एडीएचडी, डिप्रेशन आदि शामिल हैं।

किसी भी काम में मन नहीं लगना, चिड़चिड़ापन और बेचैनी, नींद से जुड़ी परेशानी, इंसान की मनोदशा में बदलाव, शरीर में ऊर्जा की कमी, खानपान की आदतों में बदलाव आदि रोगी भी लाभ ले सकते हैं। उन्होंने कहा कि मानसिक रोगी को उपचार के साथ अपनों का सहयोग भी जरूरी है। नियमित व्यायाम, योग, हेल्दी डाइट आदि लेने से लाभ मिलता है। उन्होंने कहा कि दिव्यांग प्रमाण पत्र बनाने के लिए आधार कार्ड, पासपोर्ट साइज तीन फोटो लानी है। शिविर में आयुषमान और आभा कार्ड भी बनाएं जाएंगे।