बागेश्वर: ‘ओ हिमा जाग, का छू तेरो जलेबी को डाब…’

👉 गरुड़ में कत्यूर महोत्सव ने क्षेत्र में बही सांस्कृतिक बयार 👉 माया, प्रह्लाद व गोविंद के गीतों ने मचाई धूम, लोग थिरके सीएनई रिपोर्टर,…

'ओ हिमा जाग, का छू तेरो जलेबी को डाब...'

👉 गरुड़ में कत्यूर महोत्सव ने क्षेत्र में बही सांस्कृतिक बयार
👉 माया, प्रह्लाद व गोविंद के गीतों ने मचाई धूम, लोग थिरके

सीएनई रिपोर्टर, गरुड़ (बागेश्वर): कत्यूर महोत्सव की दूसरी शाम लोक कलाकारों के नाम रही। सुप्रसिद्ध लोक गायिका माया उपाध्याय व लोक गायक प्रहलाद मेहरा के गीतों पर लोग जमकर थिरके। पहली बार आयोजित हो रहे कत्यूर महोत्सव ने क्षेत्र में सांस्कृतिक बयार बहा दी है।

महोत्सव में दूसरी शाम जैसे ही प्रसिद्ध लोक गायिका माया उपाध्याय ने ‘मोहना—मोहना’, ‘मेरो दिल में बस गो’, ‘इत्ती टनकपुर’, ‘हाय काकड़ी झिल मा’ आदि गीतों से दर्शकों को अपने स्थान पर खड़े होकर नाचने पर मजबूर कर दिया। इतना ही नहीं उन्होंने शानदार प्रस्तुतियों से दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। वहीं लोक गायक प्रहलाद मेहरा ने जैसे ही ‘ओ हिमा जाग, का छू तेरो जलेबी को डाब’ गीत गाया, तो दर्शक थिरकने को मजबूर हो गए। उन्होंने ‘ऐ जा रे मेरो दानपुरा’, ‘हाट की कालिका मैया’ आदि गीत गाए। लोक गायक गोविंद गिरी के गीतों पर जनप्रतिनिधियों ने भी जमकर नृत्य किया। अध्यक्षता ब्लाक प्रमुख हेमा बिष्ट ने की तथा संचालन चंद्रशेखर बड़सीला ने किया।
‘गरुड़ा भरती कौसाणी ट्रेनिंगा’ गीत से श्रोता भावविभोर

कत्यूर महोत्सव की दूसरी शाम कवियों के नाम रही। कुमाउंनी कवि सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए वरिष्ठ कवि गोपाल दत्त भट्ट ने प्राचीन बहुचर्चित कुमाउंनी गीत ‘गरूड़ा भरती कौसाणी ट्रेनिंगा’ गाया, तो श्रोताभाव विभोर हो गए। इस मौके पर मोहन जोशी, डॉ. हेम चंद्र दुबे, जीवन दोसाद, डॉ. गिरीश अधिकारी, ओम प्रकाश फुलारा आदि अनेक कवियों ने दर्शकों को देर रात अपनी रचनाओं से बांधे रखा। इस दौरान राज्यमंत्री शिव सिंह बिष्ट, पूर्व विधायक ललित फर्सवाण, ब्लाक प्रमुख हेमा बिष्ट, जिपंस जनार्दन लोहुमी, संयोजक नंदन सिंह अल्मिया, भाजपा जिला महामंत्री घनश्याम जोशी, जगदीश आर्य, रणजीत दास, तहसीलदार तितिक्षा जोशी, पर्यटन अधिकारी पीके गौतम, हरीश जोशी, जिपं उपाध्यक्ष नवीन परिहार, इंद्र सिंह बिष्ट, दीवान नेगी, दीवान नेगी, बबलू नेगी, जेसी आर्या, हरीश रावत, महेश बिष्ट ठाकुर, रविशंकर बिष्ट, अभय नेगी, दीपक खुल्बे आदि मौजूद थे।