बागेश्वर : मां व बच्चों के 4 शव मिलने के मामले की खुलने लगी परतें

— परिवार के मुखिया भूपाल को ढूंढ लाई पुलिस— कमरे से सुसाइट नोट तथा कीटनाशक मिला— मामले में एसएचओ बागेश्वर लाइन हाजिर सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर…


— परिवार के मुखिया भूपाल को ढूंढ लाई पुलिस
— कमरे से सुसाइट नोट तथा कीटनाशक मिला
— मामले में एसएचओ बागेश्वर लाइन हाजिर

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर : यहां जोशीगांव में मां व उसके बच्चों समेत 04 शव मिलने के मामले की परतें खुलने लगी हैं। अत्यधिक दबाव व परेशानी की वजह से मामला आत्महत्या के रूप में सामने आया है। मौके से मिले सुसाइट नोट के आधार आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले पर मुकदमा दर्ज हो चुका है।

सुसाइट नोट से स्थानीय पुलिस द्वारा सहयोग नहीं किए जाने की बात भी सामने आई है। ​इस पर एसएचओ को लाइन हाजिर कर दिया गया है। दूसरी तरफ मृतका के पति भूपाल राम को पुलिस चुचेर गांव से ढूंढ लाई है। जिससे पूछताछ की जा रही है।

पुलिस अधीक्षक हिमांशु कुमार वर्मा ने प्रेसवार्ता में बताया…

पुलिस अधीक्षक हिमांशु कुमार वर्मा ने आज प्रेसवार्ता में बताया कि गत दिनों जोशीगांव में गोविंद बिष्ट के मकान में परिवार के साथ किराये पर रहने वाले भूपाल राम पुत्र हरीश राम, निवासी भनार घटबगड़, थाना कपकोट, बागेश्वर की 38 वर्षीया पत्नी नंदी देवी, 14 वर्षीया पुत्री अंजलि, 7 वर्षीय पुत्र कृष्णा व एक वर्षीय पुत्र भावेश की संदिग्ध हालातों में मौत हो गई थी। उनके शव कमरे में बिस्तर पर पड़े मिले थे। किराए के दोनों कमरे अंदर से ​बंद मिले थे। एसपी ने बताया कि परिजनों को बुलाकर शवों का पोस्टमार्टम करने के बाद अंत्येष्टि कर दी गई है। उनका बिसरा जांच के लिए भेजा गया है। पीएम रिपोर्ट आना बांकी है।

कीटनाशक व सुसाइट नोट मिला

एसपी हिमांशु कुमार वर्मा ने बताया कि मृतकों के घर की तलाशी के दौरान एक सुसाइड नोट मिला। जो 06 पन्नों का था। लिखावट मिलाने से पता चला कि भूपाल राम की आठवीं में पढ़ने वाली पुत्री/मृतका अंकिता ने यह सुसाइट नोट लिखा। इसकी जांच राइटिंग एक्सपर्ट से भी कराई जाएगी। सुसाइट नोट के गहनता से अवलोकन करने के लिए एक टीम गठित कर दी है। उन्होंने बताया कि कमरे से एक पारदर्शी पन्नी में पाउडरनुमा पदार्थ मिला है,​ जिसमें सल्फास कीटनाशक जैसी गन्ध आ रही है। कीटनाशक पदार्थ को परीक्षण के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा जा रहा है।

आखिर क्या था सुसाइट नोट में

एसपी ने बताया कि सुसाइट नोट लंबा है। जिसमें लिखा था कि आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है और उनके खाने के लिए राशन नहीं है। पिता भूपाल राम गत 01 मार्च 2023 से घर नहीं आया। भूपाल ने कई लोगों से पैसे उधार लिये हैं। भूपाल अधिकतर बाहर रहता था और लोग उनके घर व रास्ते में आते—जाते अपने पैसे वापस मांगने के लिए भूपाल की पत्नी पर दबाव बनाते थे। कुल मिलाकर भूपाल की करतूतों का सामना पत्नी व बच्चों को करना पड़ता था। जिससे पत्नी व बच्चे मानसिक तौर पर काफी परेशान थे। एसपी ने बताया कि कुछ लोगों के नाम भी सुसाइट नोट में शामिल हैं, जो उनसे पैसे वापस देने के लिए उन पर दबाव बना रहे थे। इस पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

पुलिस का नहीं मिला सहयोग, एसएचओ लाइन हाजिर

एसपी ने प्रेसवार्ता में बताया कि सुसाइट नोट में यह भी लिखा है कि उनकी शिकायत पर स्थानीय पुलिस का सहयोग नहीं मिला। उन्होंने बताया कि इस पर एसएचओ को लाइन हाजिर कर दिया गया है और इसकी कारण मामले की विवेचना बागेश्वर कोतवाली को नहीं बल्कि कपकोट कोतवाली और सीओ को सौंपी गई है और स्थानीय पुलिस की लापरवाही पर विभागीय जांच की जा रही है। विवेचना में सामने आने वाले तथ्यों के आधार पर कार्यवाही होगी।

चुचेर गांव से भूपाल को लाई पुलिस

एसपी ने बताया कि पुलिस लगातार काम कर रही है और इसी के चलते भूपाल राम को कांडा के चुचेर गांव से पुलिस ले आई है और उससे पूछताछ की जा रही है। इसके अलावा मृतका नंदी देवी के देवर मनोहर राम पुत्र हरीश राम निवासी ग्राम-भनार तोक, घटबगड़, थाना कपकोट जिला बागेश्वर ने तहरीर कोतवाली बागेश्वर में दी है। जिसके आधार पर आत्महत्या के लिए उकसाने के संबंध में धारा 306 भादवि के तहत अभियोग पंजीकृत किया गया है। जिसकी विवेचना थानाध्यक्ष कपकोट कैलाश सिंह बिष्ट को सौंपी गई है।

उत्तराखंड के महासू देवता मंदिर पहुंचे द ग्रेट खली, परिवार संग लिया आशीर्वाद

पूर्व प्रकाशित खबरें :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *