हल्द्वानी : अमित की हत्या का खुलासा, मौसेरा भाई ही निकला हत्यारा

बदले की भावना व शक बना हत्या का कारण, धारदार हथियार से की थी हत्या हल्द्वानी समाचार | रामपुर रोड पर कत्था फैक्ट्री के पास…

हल्द्वानी : अमित की हत्या का खुलासा, मौसेरा भाई ही निकला हत्यारा

बदले की भावना व शक बना हत्या का कारण, धारदार हथियार से की थी हत्या

हल्द्वानी समाचार | रामपुर रोड पर कत्था फैक्ट्री के पास पिता का ठेला संभाल रहे अमित कश्यप की हत्या का खुलासा पुलिस ने कर दिया है, पुलिस ने हत्या के जुर्म में मौसेरे भाई को गिरफ्तार किया है। उसके कब्जे से हत्या में प्रयोग पाटल भी बरामद किया गया है।

दरअसल, 26 नवम्बर रविवार शाम 6:30 बजे करीब गणेश कत्था फैक्ट्री रामपुर रोड़ टीपीनगर के पास ठेली लगाकर व्यवसाय करने वाले सुमेर कश्यप निवासी पीलीभीत के 30 वर्षीय पुत्र अमित कश्यप की अज्ञात द्वारा धारदार हथियार से मुंह व सर पर कई वार करके हत्या कर दी गयी। इसके बाद आरोपी मौके से भाग निकले। इस सम्बन्ध में तहरीर के आधार पर 28 नवम्बर को कोतवाली हल्द्वानी में एफआईआर नं. 563/23 धारा 302 भा.द.वि. बनाम अज्ञात पंजीकृत किया गया।

सनसनीखेज हत्याकांड के खुलासे के लिए एसएसपी प्रहलाद नारायण मीणा ने तत्काल भुपेन्द्र सिंह सीओ हल्द्वानी, संगीता सीओ लालकुआं के नेतृत्व में पुलिस टीमों का गठन किया। गठित पुलिस टीम ने जांच शुरू की और घटनास्थल व शहर के सीसीटीवी कैमरो की जांच की गई।

पुलिस टीम ने 3 दिसम्बर रविवार को हत्या करने वाले अभियुक्त 28 वर्षीय अरूण कश्यप पुत्र गोपाल कश्यप निवासी पिलीभीत को ग्राम डी क्लास तल्ली हल्द्वानी स्थित हनुमान मंदिर के पास से गिरफ्तार कर लिया तथा उसकी निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त आला कत्ल पाटल को भी बरामद किया। अरूण कश्यप हाल निवासी देवबन्दु बिहार कत्था फैक्टी, रामपुर रोड हल्द्वानी।

पूछताछ पर मृतक अमित कश्यप व उसके पिता सुमेर अभियुक्त अरूण कश्यप के मौसेरे भाई व मौसा हैं तथा अभियुक्त की पत्नी मृतक अमित की सगी साली है।

अरूण कश्यप अपने पिता के लापता होने व भाई की मृत्यु (इसी वर्ष 26 अक्टूबर को पीलीभीत में जिसकी बॉडी पीलीभीत में तालाब में मिली थी) के लिए अपने मौसा के परिवार को जिम्मेदार मानता है साथ ही अपनी पत्नी का अपने जीजा के घर आने-जाने के कारण भी इनके ऊपर शक करता है, तथा अपनी हत्या किये जाने का भी डर उनके मन में बना था।

उक्त कारण उसने योजना बनाई एवं घटना के दिन मंगलपड़ाव बाजार से पाटल खरीदा और 26 नवम्बर को ठेली पर अंधेरे का फायदा उठाकर पीछे से आकर उसके द्वारा अमित (मौसेरे भाई) की पाटल से वार कर निर्मम हत्या कर दी गयी एवं फरार हो गया।

एसएसपी प्रहलाद नारायण मीणा ने सनसनी वारदात को अंजाम देने वाले व्यक्ति को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को उत्साहवर्धन हेतु 2,500 रूपये नगद ईनाम से पुरूस्कृत करने की घोषणा की है।

पुलिस टीम में –

1- प्रभारी निरीक्षक कोतवाली श्री हरेन्द्र चौधरी
2- व.उ.नि. महेन्द्र प्रसाद
3- उ.नि. सुशील जोशी चौकी प्रभारी टीपीनगर
4- उ.नि. विजय मेहता चौकी प्रभारी मण्डी
5- उ.नि. जगदीप नेगी चौकी प्रभारी मंगल पड़ाव
6- उ.नि. नरेन्द्र कुमार चौकी प्रभारी राजपुरा
7- उ.नि. त्रिभुवन सिंह चौकी प्रभारी गन्ना सैन्टर
8- उ.नि. बबिता चौकी मंडी
9- का. तारा सिंह चौकी टीपीनगर
10- का. नवीन राणा चौकी टीपीनगर
11- का. बंशीधर जोशी
12- का. घनश्याम रौतेला

टैक्निकल टीम –

1- हे.कानि. इसरार नबी (सीसीटीवी टीम)
2- का. राजेश सिंह सर्वीलांस सैल
3- का. अनिल टम्टा टीपीनगर