बागेश्वर: लोक संस्कृति के संरक्षण को सामूहिक प्रयास जरूरी—बसंती देव

👉 जिला पंचायत अध्यक्ष ने किया प्रसिद्ध कोट भ्रामरी मेले का समापन सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: गरुड़ तहसील अंतर्गत रंगारंग कार्यक्रमों के साथ तीन दिनी सुप्रसिद्ध…

लोक संस्कृति के संरक्षण को सामूहिक प्रयास जरूरी—बसंती देव

👉 जिला पंचायत अध्यक्ष ने किया प्रसिद्ध कोट भ्रामरी मेले का समापन

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: गरुड़ तहसील अंतर्गत रंगारंग कार्यक्रमों के साथ तीन दिनी सुप्रसिद्ध कोट भ्रामरी नंदाष्टमी मेला संपन्न हो गया है। मेले का समापन करते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष बसंती देव ने कहा कि मेलों में हमें लोक संस्कृति की झलक देखने को मिलती है। उन्होंने कहा कि लोक संस्कृति के संरक्षण के लिए सभी को सामूहिक प्रयास करने होंगे। इस अवसर पर उन्होंने कलाकारों को पुरस्कार भी वितरित किए गए।

अध्यक्षता करते हुए मेलाध्यक्ष व ब्लाक प्रमुख हेमा बिष्ट ने मेले को संपन्न कराने में दिए गए सहयोग के लिए सभी का आभार व्यक्त किया। मेलाधिकारी व उप जिलाधिकारी मोनिका ने मेले के सफल संचालन के लिए सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया। संचालन चंद्रशेखर बड़सीला ने किया। इस दौरान तहसीलदार तितिक्षा जोशी, मेला संरक्षक शिव सिंह बिष्ट व ललित फर्सवाण,उपाध्यक्ष जिला पंचायत नवीन परिहार,पूर्व उपाध्यक्ष इंद्र सिंह बिष्ट, जेसी आर्या, हरीश रावत, डीके जोशी, सुनील दोसाद, महेश बिष्ट, रमेश जोशी, कैलाश बोरा, राजू नेगी,बहादुर कोरंगा आदि उपस्थित थे।
राइंका अमस्यारी रहा प्रथम

गरुड़। कोट भ्रामरी मेला के दौरान विभिन्न विद्यालयों की सांस्कृतिक प्रतियोगिताओ का आयोजन किया किया। जिसमें क्षेत्र के 13 विद्यालयों के बच्चों के प्रतिभाग किया। जिसमें राजकीय इंटर कालेज अमस्यारी प्रथम, सनराइज पब्लिक स्कूल, राइका वज्युला, इंटर कालेज गारीगोल, जूनियर हाईस्कूल मन्युड़ा, राइका गरुड़, खोलिया विवेकानंद गरुड़ ने क्रमश द्वीतीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया।जिन्हें पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण ने अपने भाई स्व नवीन फर्स्वाण की स्मृति में नकद धनराशि देकर सम्मानित किया।