बागेश्वर में बुल्डोजर चला और कई फड़ हटे, तो हो गया हंगामा

— विरोध व आक्रोश के चलते रोकना पड़ा अतिक्रमण हटाओ अभियान सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: नगर के अस्पताल रोड पर अतिक्रमण हटाने के लिए आज जैसे…

— विरोध व आक्रोश के चलते रोकना पड़ा अतिक्रमण हटाओ अभियान

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: नगर के अस्पताल रोड पर अतिक्रमण हटाने के लिए आज जैसे ही पालिका की टीम पहुंची, तो लोगों ने जमकर हंगामा काट डाला। ट्रामा सेंटर की तरफ से लगभग 10 कच्चे और पक्के दुकानों पर बुल्डोजर चला और उन्हें हटाया, लेकिन श्रीनौला पहुंचने पर लोगों के विरोध के कारण अतिक्रमण हटाने का अभियान थम गया। इससे फड़ व्यापारियों में आक्रोश है। उन्होंने पहले पालिका से उन्हें दुकान आवंटित करने और इसके बाद अतिक्रमण हटाने की मांग की।

शनिवार को नगर पालिका बुल्डोजर मशीन लेकर अस्पताल रोड पर पहुंच गई। एक सप्ताह पूर्व 20 अतिक्रमणकारियों को नोटिस दिए गए थे। उनसे सामान हटाने और दुकान खाली करने को कहा गया, लेकिन ऐसा नहीं हुआ, तो आज अधिशासी अधिकारी सतीश कुमार के नेतृत्व में अतिक्रमण हटाने के लिए टीम निकली और उसने ट्रामा सेंटर की तरफ से लगभग सात फड़ हटा दिए। इससे हड़कंप मचा और काफी संख्या में लोग जमा हो गए। ये लोग विरोध में उतर आए और उनकी टीम से तीखी नोकझोंक हुई। फड़ व्यापारियों ने कहा कि वह कई वर्षों से यहां फड़ लगा रहे हैं। पालिका को प्रतिदिन 20 से 50 रुपये शुल्क भी दे रहे हैं। उन्हें पालिका के माध्यम से बैंकों से ऋण भी मिला है। जिसका ब्याज और किश्त जमा करने के लिए उन्हें रोज काम करना है। फड़ हटने से उनकी रोजीरोटी पर असर पड़ेगा।

उनका कहना था कि पालिका उन्हें दूसरे स्थान पर फड़ दे और अस्पताल रोड से अपनी दुकान हटा लेंगे। बीच में पहुंचे पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण फड़ व्यापारियों की तरफ हो गए। उन्होंने कहा कि वह एक भी फड़ को हटने नहीं देंगे। सीएमओ से भी बात करेंगे। जिन लोगों ने सड़क पर कब्जा किया है, उन पर कार्रवाई होनी चाहिए। गरीब लोगों को परेशान किया जा रहा है। जिस पर पालिका का अतिक्रमण हटाओ अभियान थम गया। ईओ ने कहा कि शीघ्र बैठक बुलाई जाएगी। अतिक्रमण हटाने के लिए पुन: अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान फड़ ऐसोसिएशन के अध्यक्ष किशन राम, व्यापार मंडल अध्यक्ष कवि जोशी, भीम कुमार, सभासद धीरेंद्र परिहार, राहुल साह आदि ने कहा कि फड़ हटाए जा रहे हैं। लेकिन पालिका उनकी कोई व्यवस्था नहीं कर रही है।