बैंक ने शुद्ध लाभ में लगाई ऊंची छलांग, नेट एनपीए शून्य

👉 अल्मोड़ा अर्बन को—आपरेटिव बैंक लि. के वार्षिक सामान्य निकाय की बैठक 👉 गत वित्तीय वर्ष के सापेक्ष शुद्ध लाभ में 82 प्रतिशत वृद्धि 👉…

बैंक ने शुद्ध लाभ में लगाई ऊंची छलांग, नेट एनपीए शून्य

👉 अल्मोड़ा अर्बन को—आपरेटिव बैंक लि. के वार्षिक सामान्य निकाय की बैठक

👉 गत वित्तीय वर्ष के सापेक्ष शुद्ध लाभ में 82 प्रतिशत वृद्धि

👉 निरंतर तेजी से प्रगति के पायदान चढ़ रहा बैंक—पीसी तिवारी

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा: अल्मोड़ा अर्बन को—आपरेटिव बैंक लिमिटेड निरंतर तेजी से उल्लेखनीय प्र​गति कर रहा है। बैंक का वित्तीय वर्ष 2022-23 में शुद्ध लाभ 3017.96 लाख रुपये रहा, जो वित्तीय वर्ष 2021-22 में अर्जित शुद्ध लाभ के सापेक्ष 82 प्रतिशत अधिक है। इसके अलावा बैंक का नेट एनपीए शून्य है। यह जानकारी आज बैंक की 32वीं वार्षिक ​सामान्य निकाय की बैठक में दी गई। यह बैठक मालरोड, अल्मोड़ा स्थित होटल सुनीता में सम्पन्न हुई।उत्तराखण्ड का प्रथम सहकारी क्षेत्र का यह बैंक की शाखाएं जल्द ही बढ़कर 55 हो जाएंगी।

बैंक प्रबन्ध निदेशक/सीईओ पीसी तिवारी ने निदेशक मण्डल की रिपोर्ट पढ़ते हुए बताया कि वर्ष 2022-23 में बैंक की कार्यशील पूंजी में गत वर्ष की तुलना में 248.30 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई, जो अब 3904.14 करोड़ रुपये हो गयी है। निक्षेपों में पिछले वर्ष की तुलना में 175.44 करोड़ रुपये की वृद्धि होकर 3208.32 करोड़ तक पहुंच चुके हैं तथा ऋण व अग्रिमों में गत वर्ष की तुलना में अधिक ऋण वितरित करने के बावजूद अच्छी वसूली हुई और 233.31 करोड़ रुपये की वृद्धि होकर 1532.51 करोड़ रुपये का ऋण लगा रहा। उन्होंने बताया कि बैंक की निजी पूंजी अब 590.10 करोड़ हो गई है और बैंक का नेट एनपीए शून्य है। श्री तिवारी ने बताया कि बैंक ने अपने कुल ऋण का करीब 68.74 प्रतिशत प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र को वितरित करके देश की प्रगति में सराहनीय योगदान दिया है और बैंक ने अभूतपूर्व प्रगति की है। उन्होंने बताया कि वित्तीय वर्ष 2022-23 में बैंक का शुद्ध लाभ 3017.96 लाख रुपये रहा, जो विगत वित्तीय वर्ष 2021-22 में अर्जित शुद्ध लाभ 1664.64 लाख रुपये के सापेक्ष 82 प्रतिशत अधिक है। बैंक प्रबन्धन ने वर्तमान वर्ष में अपने अंशधारकों को 10 प्रतिशत की दर से लाभांश देने का निर्णय लिया है।

उन्होंने बताया कि बैंक ने 31 मार्च 2023 तक 1654.32 करोड़ रुपये की धनराशि सरकारी प्रतिभूतियों में भारतीय रिजर्व बैंक के पास विनियोजित की गयी है और बैंक ग्राहकों को प्राथमिकता के आधार पर हरसंभव सुविधाएं प्रदान कर रहा है। उन्होंने बताया कि ग्राहकों को भारत के लगभग समस्त शहरों में ड्राफ्ट निर्गत करने की सुविधा के साथ ही आधुनिक बैंकिंग सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। 26 शाखाओं में एटीएम सुविधा दी जा रही है और जल्द ही 04 नये एटीएम कमशः चौखुटिया, सोमेश्वर, दन्या व रूद्रपुर में स्थापित किये जाने प्रस्तावित हैं। उन्होंने बताया कि अल्मोड़ा अर्बन बैंक उत्तराखण्ड का प्रथम सहकारी क्षेत्र का बैंक है, जो भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) का प्रत्यक्ष सदस्य है। एनपीसीआई के माध्यम से बैंक के ग्राहक एनपीसीआई सदस्य बैंकों के एटीएम तथा सम्पूर्ण भारत में प्वाइंट ऑफ सेल (POS) टर्मिनल का प्रयोग बैंक के कार्ड के माध्यम से कर सकते हैं।

ग्राहकों की सुविधा के लिये बैंक आधुनिक सेवा ई-कॉमर्स प्रदान कर रहा है, जिससे एटीएएम कार्डधारक कार्ड के माध्यम से ‘ऑनलाइन’ लेन-देन कर सकते हैं। इसके माध्यम से बिलों का भुगतान, भारतीय जीवन बीमा की किस्तों का भुगतान, मोबाइल रिचार्ज, डीटीएच रिचार्ज आदि किया जा सकता है। आशा है कि इस सुविधा से बैंक के ग्राहक लाभान्वित हो रहे होंगे। बैंक आरटीजीएस ईसीएस का भी प्रत्यक्ष सदस्य है। इसके अलावा कार्ड के माध्यम से लगभग एक हजार रुपये का नकद आहरण भी किया जा सकता है। बैंक द्वारा अपने ग्राहकों को आरटीजीएस, एनईएफटी, पीएफएमएस एवं एसएमएस की सुविधा प्रदान की जा रही है। बैंक आरटीजीएस व ईसीएस के डायरेक्ट मैम्बर के रूप में कार्य कर रहा है। बैंक QR कोड एवं Branch IMPS की सुविधा भी प्रदान कर रहा है। उन्होंने बताया कि संचालक मण्डल बैंक को और अधिक आधुनिक सुविधाओं से लैस करने के प्रयास में लगा है और ग्राहकों को आधुनिकतम सुविधा प्रदान करने के लिए कृत संकल्प हैं। उन्होंने बताया कि बैंक ने वित्तीय वर्ष 2022-23 में 11.05 करोड़ रुपये का अग्रिम आयकर जमा किया गया है। इससे देश की प्रगति में राजस्व वृद्धि कर योगदान दिया जा रहा है। इसके अलावा बैंक कई सामाजिक व राष्ट्रीय कार्यक्रमों में सहयोग करते आ रहा है।

इससे पहले बैंक अध्यक्ष/सीए महेश चन्द्र जोशी ने बैंक के सामान्य निकाय प्रतिनिधियों का स्वागत किया। उन्होंने बैंक की अद्यितीय प्रगति पर प्रसन्नता जताते हुए कहा कि बैंक के संचालक मण्डल के सदस्यों, अंशधारकों, ग्राहकों, उत्तराखण्ड शासन, आयुक्त कुमाऊं मण्डल व गढ़वाल मण्डल, उत्तराखण्ड के सभी जिलाधिकारियों, नगर निगम महापौरों, नगरपालिका अध्यक्षों, जिला पंचायत अध्यक्षों, प्रशासनिक अधिकारियों, भारतीय रिजर्व बैंक, सहकारिता विभाग, आडिट विभाग, सभी बैंकों एवं बैंक के समर्पित, कर्तव्यनिष्ठ अधिकारियों व कर्मचारियों के प्रयासों से यह प्रगति हुई है। इस सहयोग के लिए उन्होंने सभी का आभार व्यक्त किया।
05 नई शाखाएं खोलेगा बैंक

सीईओ ने बताया कि 31 मार्च 2023 को कुल 50 शाखाओं के साथ वर्तमान में बैंक का कार्यक्षेत्र सम्पूर्ण उत्तराखण्ड है। इसके अलावा जल्द ही बैंक की 05 नई शाखाएं खुलेंगी, जो डीडीहाट, दन्या, सोमेश्वर, चौखुटिया एवं रूद्रपुर में प्रस्तावित हैं। उन्होंने बताया कि बैंक ने वर्ष 2024 तक अपना कार्य व्यवसाय 6000 करोड़ रुपये तक पहुंचाने का लक्ष्य ​निर्धारित किया है। उन्होंने बताया कि बैंक ने उत्तराखण्ड के बेरोजगारों को अधिकाधिक रोजगार प्रदान किया गया है।
बैठक में प्रमुख उपस्थिति

इस बैठक में बैंक उपाध्यक्षा डॉ. वसुधा पन्त, बैंक संचालक सुरेन्द्र प्रसाद, सुजाता गुलाटी, विनय कुमार टण्डन, सीए दिनेश चन्द्र, सीए गगनदीप सिंह सहदेव, प्रकाश पेटशाली, हरीश चन्द्र पाठक, चन्द्रशेखर काण्डपाल, दीपक गौड़, जीतेन्द्र सिंह, गिरीश धवन, प्रकाश पाण्डे, सदी राम आर्या, बैंक प्रतिनिधि प्रभा साह, आनन्द सिंह बगड्वाल, किशन चन्द्र गुरुरानी, नवीन चन्द्र पाठक, गोविन्द लाल वर्मा, सुनील अग्रवाल एवं विशेष आमंत्रित सदस्य लक्ष्मण सिंह ऐठानी, विनीत दुर्गापाल, मुमताज हुसैन शाह, दीवान सिंह बिष्ट एवं सामान्य निकाय के प्रतिनिधिगण तथा बैंक के अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।