कत्यूर महोत्सव विशेष : 04 किमी लंबी झांकी ने दिखाई भव्य कत्यूरी झलक

👉 पहली बार कत्यूर महोत्सव का आयोजन, विधायक पार्वती ने किया उद्घाटन 👉 मंच पर बिखरी बहुरंगी छटा, स्टाल सजे, पुस्तक का विमोचन सीएनई रिपोर्टर,…

04 किमी लंबी झांकी ने दिखाई भव्य कत्यूरी झलक

👉 पहली बार कत्यूर महोत्सव का आयोजन, विधायक पार्वती ने किया उद्घाटन
👉 मंच पर बिखरी बहुरंगी छटा, स्टाल सजे, पुस्तक का विमोचन

सीएनई रिपोर्टर, गरुड़ (बागेश्वर): रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ तीन दिवसीय कत्यूर महोत्सव का आज आगाज हो गया।महोत्सव का शुभारंभ करते हुए विधायक पार्वती दास ने कहा कि ऐतिहासिक व पौराणिक विरासत का संरक्षण करना जरूरी है। महोत्सव के तहत मनमोहक झांकी निकली,​ जिसमें पूरे कत्यूर क्षेत्र की झलक दिखी। इसके अलावा मंच पर बहुरंगी छटा बिखरी। (आगे पढ़िये…)

जिला प्रशासन एवं पर्यटन विभाग द्वारा बैजनाथ में तीन दिवसीय कत्यूर महोत्सव का शुभारंभ विधायक पार्वती दास ने किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि कत्यूरघाटी का एक गौरवशाली इतिहास रहा है। जहाँ ऐतिहासिक व पौराणिक महत्व के कई धरोहर विराजमान हैं। इनका संरक्षण करना नितांत आवश्यक है। उन्होंने पहली बार आयोजित हो रहे इस महोत्सव की बधाई देते हुए इसको और अधिक भव्य बनाने पर जोर दिया। विशिष्ट अतिथि राज्यमंत्री शिव सिंह बिष्ट ने कहा कि यह कत्यूर महोत्सव यहां की संस्कृति व धरोहर को सहेजने में मील का पत्थर साबित होगा। विधायक सुरेश गड़िया ने कहा कि प्रदेश सरकार हर जगह के महत्वपूर्ण स्थानों को चिन्हित कर उन्हें विकसित करने के लिए ऐसे महोत्सव आयोजित कर स्थानीय लोगो को अपनी थाती से जोड़ने का प्रयास कर रही है। (आगे पढ़िये…)

जिला पंचायत अध्यक्ष बसंती देव ने कहा कि संस्कृति संरक्षण के लिए इस तरह के महोत्सव लोगों को आपस में जोड़ने का कार्य करते हैं। पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण ने कहा कि कत्यूरघाटी की राजधानी रही बैजनाथ में कत्यूर महोत्सव एक आयोजन होना हम सब के लिए गर्व की बात है। ऐसे महोत्सवों से हमें अपने गौरवशाली इतिहास व परंपराओं को जानने व समझने का मौका भी मिलता है। जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने पहली बार आयोजित हो रहे कत्यूर महोत्सव की सभी क्षेत्र वासियों को बधाई देते हुए कहा कि पर्यटक स्थल बैजनाथ में यह महोत्सव आयोजित होने से जहां लोगो को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा वही इससे पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता ब्लाक प्रमुख हेमा बिष्ट तथा संचालन चंद्रशेखर बड़सीला ने किया। इस दौरान उप जिलाधिकारी मोनिका, पुलिस उपाधीक्षक अंकित कंडारी, तहसीलदार तितिक्षा जोशी, जिला पर्यटन अधिकारी पीके गौतम, समिति के संयोजक नंदन सिंह अल्मिया, भाजपा जिलाध्यक्ष इंद्र सिंह फर्स्वाण, भाजपा जिला महामंत्री घनश्याम जोशी, हरीश जोशी, जिपंस जनार्दन लोहुमी, सुनीता आर्या, जेसी आर्या, मंगल राणा, प्रदीप गुरुरानी, अधिशासी अधिकारी आरके जोशी, महेश बिष्ट, कैलाश खुल्बे, बबलू नेगी, राजू कैड़ा, शंकर खड़ाई आदि मौजूद थे। (आगे पढ़िये…)
शोभा यात्रा में दिखी कत्यूरी झलक

गरुड़: कत्यूर महोत्सव के शुभारंभ से पूर्व निकाली गई सांस्कृतिक शोभा यात्रा में पूरे कत्यूर की झलक देखने को मिली। शोभा यात्रा को राज्यमंत्री शिव सिंह बिष्ट, पूर्व विधायक ललित फर्सवाण, ब्लाक प्रमुख हेमा बिष्ट ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। विभिन्न स्कूलों के बच्चों ने बैजनाथ मंदिर, कोट भ्रामरी मंदिर समेत कत्यूर घाटी की विविध सांस्कृतिक, पौराणिक व ग्रामीण परिवेश पर आधारित झांकी प्रस्तुत कर समूचे कत्यूर को गरुड़ बाजार में उतार दिया। खोलिया विवेकानंद के बच्चों शानदार घोष का प्रदर्शन किया। नांगरा, निशाणों, हुड़के व ढोल-दमाऊ की थाप पर लोग झूम उठे। पाये गांव की होली गायन की झांकी पर लोगों ने जमकर ठुमके लगाए। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष इंद्र सिंह फर्सवाण, रंजीत दास, बबलू नेगी, हरीश जोशी, हरीश रावत, आदि मौजूद थे। (आगे पढ़िये…)
बच्चों की प्रस्तुति ने मोहा मन

गरुड़: कत्यूर महोत्सव में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रमों ने लोगों का मन मोह लिया। राजकीय बालिका इंटर कॉलेज पुरड़ा के बच्चों द्वारा प्रस्तुत गंगा अवतरण की शानदार प्रस्तुति ने खूब तालियां बटोरी। इस दौरान बीईओ कमलेश्वरी मेहता प्रधानाचार्य सोनिया गौरव आदि मौजूद थे। (आगे पढ़िये…)
विभिन्न विभागों ने लगाए स्टॉल

गरुड़: कत्यूर महोत्सव में विभिन्न विभागों ने स्टॉल लगाए। स्वीप के स्टॉल पर सेल्फी खींचने वालों की भारी भीड़ उमड़ी। इस दौरान आलोक पांडे, उमेश जोशी, डीएल वर्मा, मोहन भरड़ा, बचे सिंह बिष्ट आदि मौजूद थे। (आगे पढ़िये…)
‘कत्यूर घाटी: एक झलक’ का विमोचन

गरुड़: कत्यूर महोत्सव में वरिष्ठ साहित्यकार मोहन जोशी द्वारा संपादित पुस्तक कत्यूर घाटी : एक झलक पुस्तक का विमोचन भी किया गया। साहित्यकार मोहन जोशी ने बताया कि इस पुस्तक में उन्होंने कत्यूर घाटी के मंदिरों व पर्यटक स्थलों का बखूबी समावेश किया है।