मजिस्ट्रेट से भिड़ गई महिला कांस्टेबल, कहा “सरकार के नौकर हैं, आपके नहीं”

जानिए, आखिर मजिस्ट्रेट से क्यों भिड़ गई महिला कांस्टेबल CNE DESK/इन दिनों देश भर में एक महिला कांस्टेबल का वीडियो बहुत तेजी से वायरल हो…

मजिस्ट्रेट से भिड़ गई महिला कांस्टेबल

जानिए, आखिर मजिस्ट्रेट से क्यों भिड़ गई महिला कांस्टेबल

CNE DESK/इन दिनों देश भर में एक महिला कांस्टेबल का वीडियो बहुत तेजी से वायरल हो रहा है। जहां मजिस्ट्रेट द्वारा पानी मांगे जाने पर वह भड़क गई। महिला कांस्टेबल बोल रही ​है कि पुलिस सरकार की नौकर है, आपकी नहीं। वहीं अन्य पुलिस कर्मी भी उसका साथ देते नजर आ रहे हैं।

दरअसल, यह मामला बिहार की राजधानी पटना का है। यहां पशुपालन विभाग की ओर से एक कार्यक्रम का आयोजन गत दिनों हुआ था। कार्यक्रम में मजिस्ट्रेट साहब भी पहुंचे।

मजिस्ट्रेट साहब को भारी पड़ा पानी मंगवाना

वीडियो में दिख रहा है कि मजिस्ट्रेट वीपी गुप्ता ने जैसे ही पुलिसकर्मी को पानी लाने का आर्डर दिया, तो महिला सिपाही भड़ग उठी। उसने कहा कि ”मैं पानी लाकर क्यों दूं।” वह सरकारी नौकर है, मजिस्ट्रेट की कोई पर्सनल नौकर नही है।

बताया जा रहा है गित गुरुवार को पटना के दीघा घाट पर पशु एवं मत्स्य विभाग का आयोजन हुआ। जिसमें गंगा नदी में 01.5 लाख मछली के बच्चे पानी में छोड़े गए।

आयोजन के दौरान सुरक्षा व्यवस्था में सुबह से ही पुलिस लाइन से पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे। इसमें बीपी गुप्ता को मजिस्ट्रेट के तौर पर नियुक्त किया गया था। इस दौरान बीपी गुप्ता ने एक पुलिसकर्मी से पानी लाने को कहा।

यह सुनते ही महिला पुलिसकर्मी भड़क गई। जब उसने मजिस्ट्रेट के आदेश का विरोध किया तो अन्य पुलिस कर्मी भी उसका साथ देने लग गए।

नाश्ते के लिए नहीं पूछे जाने से नाराज थे पुलिस कर्मी

वायरल वीडियो में महिला पुलिस कर्मी बोल रही है कि क्या वह मजिस्ट्रेट की पर्सनल नौकर है ? वह आगे कहती है कि ”खुद सुबह से वो लोग नाश्ता कर रहे हैं तो हम लोग को पूछा तक नहीं। इसके बाद हमसे पानी मांग रहा हैं। इन्होंने अपना मुंह देखा है क्या ?”

पुलिस कर्मियों का गुस्सा इस बात पर था कि सुबह से ड्यूटी दे रहे सिपाहियों को खाना—पानी को लेकर पूछा नहीं गया। वहीं, मजिस्ट्रेट व अन्य लोगों को नाश्ता दिया गया।

मजिस्ट्रेट वीपी गुप्ता ने ​मामले पर कही यह बात

इधर मजिस्ट्रेट वीपी गुप्ता ने कहा कि उन्होंने मानवता के तौर पर पानी मांगा था। पानी तो कोई भी किसी से मांग सकता है। इसमें गलत क्या है। उन्होंने कहा कि वह खुद 4 बोतल लेकर आते हैं व अन्य लोगों को भी पिलाते हैं। आज वह पानी लाना भूल गए। मांगा तो पुलिस कर्मियों ने अपनी प्रतिष्ठा का सवाल बना लिया। वह मामले की शिकायत पुलिस के उच्च अधिकारियों से करेंगे।

Video – मजिस्ट्रेट से भिड़ गई महिला कांस्टेबल

हल्द्वानी ब्रेकिंग : दुकान में शराब पीने से रोका तो सीने में छुरा घोंप युवक हुए फरार