ला​भार्थियों को योजना की धनराशि नहीं देने पर लगाई फटकार

👉 बागेश्वर में स्वास्थ्य सचिव सचिव आर. राजेश कुमार का निरीक्षण👉 मरीजों के इलाज में कोताही से बचने से बचने की हिदायत सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर:…

ला​भार्थियों को योजना की धनराशि नहीं देने पर लगाई फटकार

👉 बागेश्वर में स्वास्थ्य सचिव सचिव आर. राजेश कुमार का निरीक्षण
👉 मरीजों के इलाज में कोताही से बचने से बचने की हिदायत

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: स्वास्थ्य सचिव आर. राजेश कुमार ने आज यहां पहुंचकर जिला चिकित्सालय सहित विभिन्न सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि मरीजों के इलाज में कोई कोताही ना बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने निर्माण कार्यों को समयबद्धता एवं गुणवत्ता के साथ तत्काल पूर्ण कराने के भी निर्देश दिए। उन्होंने जननी सुरक्षा योजना के लाभार्थियों के खाते में धनराशि ट्रांफ़सर नहीं होने पर कड़ी फटकार लगाते हुए। सम्बंधित के खिलाफ कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए।

सचिव स्वास्थ्य आर राजेश कुमार ने सीएचसी कांडा, जिला चिकित्सालय, प्रा.स्वा. केंद्र रवाiखाल व सीएचसी बैजनाथ का निरीक्षण किया गया। उन्होंने डेंगू बीमारी को रोकने के लिए अस्पताल के डेंगू वार्ड में मच्छरदानी सहित अन्य व्यवस्था दुरुस्त रखने के निर्देश दिए। चिकित्सालय में पानी की निकासी, साफ़ सफाई और दवा के छिड़काव की उचित व्यवस्था करने को कहा। निरीक्षण के दौरान उन्होंने जिला चिकित्सालय में निर्माणाधीन क्रिटिकल केयर सेंटर के कार्यो में तेजी लाते हुए डायलिसिस सेंटर के पास की खाली भूमि पर अतिरिक्त कक्षों के निर्माण के लिए प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को दिए।

उन्होंने चिकित्सालय में इमरजेंसी, दंत रोग विभाग,ईएनटी, बाल रोग विभाग, पैथोलॉजी लैब, महिला वॉर्ड में भर्ती महिलाओं एवं प्रसव से सम्बंधित विभिन्न प्रकार की व्यवस्थाएं व भर्ती मरीजों का हाल जाना। राजेश कुमार ने अस्पताल में भर्ती मरीजों से वार्ता करने के साथ ही अस्पताल से उन्हें दी जा रही विभिन्न सुविधाओं की जानकारी ली। इस दौरान चिकित्सालयों में प्रत्येक मरीज को बेहतर उपचार के लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए। कहा कि जिन उपकरणों की आवश्यकता है उनके प्रस्ताव बनाकर शीघ्र भेजे जाय। जिला चिकित्सालय में तैयार किए जा रहे अत्याधुनिक ओटी के लिए चिकित्सकों के प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाय। उन्होंने कहा जल्द विशेषज्ञ डॉक्टरों की तैनाती भी की जाएगी।

स्वास्थ्य सचिव ने स्थानीय जनता से संवाद स्थापित कर केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में संचालित विभिन्न योजनाओं एवं सुविधाओं की जानकारी दी साथ ही उनसे योजनाओं का फीडबैक भी लिया। इस दौरान कांडा क्षेत्र के लोगों द्वारा सचिव स्वास्थ के सामने नर्सिग ट्रेनिंग सेंटर खोलने की मांग रखी। स्वास्थ्य सचिव ने वैलनेस सेंटरों में जाकर अवस्थपना सुविधाओं आवश्यक चिकित्सा उपकरणों, औषधियों एवं विभिन्न संवर्गों में कार्यरत कार्मियों की स्थिति का अवलोकन किया। स्वास्थ्य सचिव के साथ विभागीय अधिकारियों ने आयुष्मान कार्ड एवं आभा आईडी बनाने के लिए आम लोगों को प्रेरित किया साथ ही टीबी मुक्त उत्तराखंड की दिशा में राज्य सरकार द्वारा अब तक किए गए प्रयासों की भी जानकारी दी।

निरीक्षण के दौरान विधायक सुरेश गड़िया, जिलाधिकारी अनुराधा पाल, स्वास्थ्य निदेशक कुमाऊं मंडल डॉ. तारा आर्या, सीएमओ डॉ.डीपी जोशी, उपजिलाधिकारी मोनिका, सीएमएस डॉ. वीके टम्टा, एसीएमओ डॉ.हरीश पोखरिया, डॉ. देवेश चौहान, तहसीलदार दीपिका आर्या,तितिक्षा जोशी सहित अन्य मौजूद रहे।