Bageshwar News: जिला पंचायत परिसर में सेनेटाइजेशन कार्य के दृष्टिगत आंदोलन कल तक स्थगित, अध्यक्ष ने आंदोलन को समाप्त बता डाला, तो उपाध्यक्ष ने किया इंकार

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर विगत 26 दिनों से जिला पंचायत परिसर में वित्तीय अनियमितता की जांच करने की मांग और बजट के असमान वितरण के खिलाफ…


सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर

नवीन परिहार, उपाध्यक्ष जिला पंचायत, बागेश्वर।

विगत 26 दिनों से जिला पंचायत परिसर में वित्तीय अनियमितता की जांच करने की मांग और बजट के असमान वितरण के खिलाफ आंदोलित जिला पंचायत के नौ सदस्यों ने अपना आंदोलन स्थगित किया है। जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी ने जिला पंचायत परिसर को सेनिटाइजेशन कार्य के लिए आंदोलन स्थगित करने का अनुरोध किया है। इसी अनुरोध पर आंदोलन स्थगित किया गया है। इस मामले पर एक तरफ जिला पंचायत अध्यक्ष का कहा है कि सदस्यों ने आंदोलन समाप्त कर दिया है, इसके लिए उन्होंने सदस्यों का धन्यवाद करते हुए उनके कदम को स्वागत योग्य बताया है, जबकि दूसरी तरफ जिला पंचायत के उपाध्यक्ष नवीन परिहार ने कहना है कि आंदोलन समाप्त नहीं किया है, बल्कि अपर मुख्य अधिकारी ने अनुरोध पर रविवार तक स्थगित किया है। इसके बाद सोमवार से आंदोलन पूर्ववत जारी रहेगा।
मालूम हो कि विगत 15 जून से जिला पंचायत के 9 सदस्यों का जिला पंचायत परिसर में आंदोलन चल रहा है। अपर मुख्य अधिकारी कार्यालय परिसर में सेनिटाइजेशन किये जाने के अनुरोध पर रविवार तक टाल रखा है।
आज जिला पंचायत अध्यक्ष बसंती देव द्वारा बिना पड़ताल के एक पत्र जारी किया गया है। जिसमें उन्होंने जिला पंचायत के उपाध्यक्ष सहित सभी सदस्यों के आंदोलन समाप्त करने के निर्णय को स्वागत योग्य बता डाला। उन्होंने लिखा है कि कार्यालय पहुंचने पर ज्ञात हुआ कि दो दिन से आंदोलनकारी सदस्य धरने पर नहीं बैठे हैं और पूरी जानकारी लेने पर पता चला कि उन्होंने अपना आंदोलन समाप्त कर दिया है। यह भी कहा है कि अब वे चाहेंगी कि सभी आंदोलित सदस्य विकास की बात करेंगे।
दूसरी ओर जिला पंचायत उपाध्यक्ष नवीन परिहार से आंदोलन समाप्त होने की बात कही गई, तो उन्होंने स्पष्ट किया कि आंदोलन समाप्त नहीं हुआ है, बल्कि एएमए के परिसर में सेनिटाइजेशन कार्य को देखते हुए इसके रविवार तक स्थगित किया गया है। सोमवार से आंदोलन पूर्ववत जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि आंदोलन को 26 दिन हो गए, केवल 3 दिन अध्यक्ष केवल वार्ता को आयी। उन्होंने कार्यालय बैठना ही छोड़ दिया। उन्होंने कहा कि जब तक धनराशि का समान वितरण नहीं होगा, तब तक उनका आंदोलन समाप्त नही होगा। बल्कि और भी तेज होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *