अल्मोड़ा: पहाड़ के पर्यावरण व जरूरी मुद्दों पर पकड़ बनाने का आह्वान

👉 चमोली के 10 गांवों के युवाओं ने दो दिन लिया प्रशिक्षण   सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा: अमन संस्था के परियोजना क्षेत्र चमोली के 10 गावों…

पहाड़ के पर्यावरण व जरूरी मुद्दों पर पकड़ बनाने का आह्वान

👉 चमोली के 10 गांवों के युवाओं ने दो दिन लिया प्रशिक्षण

 

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा: अमन संस्था के परियोजना क्षेत्र चमोली के 10 गावों के युवाओं की टीम को अल्मोड़ा के कोसी
में स्थित एक होटल में दो दिनी प्रशिक्षण दिया गया। सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए युवाओं की भूमिका और भविष्य की योजनाओं पर आधारित इस प्रशिक्षण में युवाओं से अपने परिवेश, पर्यावरण व जरूरी मुद्दों पर पकड़ बनाने का आह्वान किया गया।


प्रशिक्षक डा. पुष्कर सिंह बिष्ट और नीलिमा भट्ट ने युवा संगठन के सदस्यों को पहाड़ की आर्थिकी, पर्यावरण विज्ञान के अलावा विभिन्न जरूरी मुद्दों की जानकारी दी। युवाओं को वर्तमान दौर की सूचना प्रोद्यौगिकी, साइबर अपराध और साइबर सर्तकता की भी जानकारी दी गई। इसके अलावा युवाओं के लेखन कौशल को भी परखा गया। सभी युवाओं ने ग्रुप चर्चा के आधार पर अपने अपने विचारों का प्रस्तुतिकरण किया और अपने शिक्षा और कॅरियर के साथ ही पहाड़ की पारिस्थतिकी के संरक्षण के लिए परियोजना अवधि के दौरान किये गए कार्यों को भविष्य में भी जारी रखने की बात कही। प्रशिक्षक डा. ​बिष्ट ने पहाड़ की मौजूदा आर्थिकी विज्ञान को कई उदाहरणों के साथ समझाया और वर्तमान में पहाड़ में उपलब्ध फलों और वनस्पतियों के ​बेहतर उत्पाद तैयार कर आय अर्जन के तरीके बताए। उन्होंने कई रोजगारपरक कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने शिक्षा के साथ सूचना प्रौद्यौगिकी के पहलुओं का अध्ययन करने को कहा और बच्चों को गद्य लेखन, कवि​ता लेखन और समाचार लेखन की विधाओं की जानकारी भी दी।

प्रशिक्षक नीलिमा भट्ट ने युवाओं को साईबर अपराध और साइबर सतर्कता की जानकारी दी और कहा कि वर्तमान में मोबाईल का उपयोग जिस तेजी से बढ़ा है अब शिक्षा,आर्थिकी और सामाजिक स्तरों पर मेलजोल के जितने अधिक अवसर बढ़े हैं उतनी ही चुनौतिया भी बढ़ गई है। सभी से साइबर और वित्तीय लेनदेन में काफी सतर्क और जागरुक रहने को कहा। वहीं अमन संस्था के प्रमुख रघु तिवारी, नीलिमा बिष्ट और डा. पुष्कर बिष्ट ने युवाओं के खेल आधारित कई गतिविधियां भी कराई। इस दौरान युवाओं ने पिछले पांच सालों में पर्यावरण संरक्षण, जल संरक्षण, वनाग्नि शमन, कूड़ा निस्तारण और सामाजिक कार्यों के रूप में किये गये क्रिया कलावों की जानकारी भी दी और कहा कि जलस्रोतों के संरक्षण के लिए किए गए ईको वॉक के माध्यम से उन्हें काफी कुछ सीखने को मिला। इस मौके पर जगदीश राम, ​शशि नेगी, कमला, राजलता, रेनू,दीपा, आशा सहित युवा संगठन के 30 सदस्य मौजूद थे।