Monday , August 20 2018
Home / Uttarakhand / Almora / अगस्त क्रांति में महान स्वतंत्रता सेनानियों को भूला जिला कारागार, कोई कार्यक्रम नहीं, बैरंग लौटे स्कूली बच्चे, व्यवस्था पर बिफरे डिप्टी स्पीकर और डीएम

अगस्त क्रांति में महान स्वतंत्रता सेनानियों को भूला जिला कारागार, कोई कार्यक्रम नहीं, बैरंग लौटे स्कूली बच्चे, व्यवस्था पर बिफरे डिप्टी स्पीकर और डीएम

अल्मोड़ा। यहां जिला कारागार में अगस्त क्रांति  कार्यक्रम का आयोजन न होने पर विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान ​बुरी तरह बिफर पड़े। उन्होंने जेल अधीक्षक को इस लापरवाही के लिए कड़ी फटकार लगाई और डीएम को उनके खिलाफ तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिये। उल्लेखनीय है कि जिला कारागार से यहां तमाम स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की यादें जुड़ी हुई हैं। पं. जवाहर लाल नेहरू, गोविंद बल्लभ पंत, आचार्य नरेंद्र देव, खान अब्दुल गफ्फार खान जैसे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी रहे थे। हर साल अगस्त क्रांति के मौके पर यहां विशेष कार्यक्रम का आयोजन होता है, लेकिन इस बार जब विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान वहां पहुंचे तो वहां यद देख खासे निराश हो गये कि वहां कोई भी किसी किस्म का कार्यक्रम नही हुआ। यहां तक की स्कूली बच्चे तक वहां से बैरंग लौट गये। डिप्टी स्पीकर ने कहा कि यह पूरी तरह लापरवाही का मामला है। उल्लेखनीय है कि विधानसभा उपाध्यक्ष पूर्वाहन के समय अगस्त क्रांति दिवस पर आजादी के वीरों को श्रद्धांजलि देने के लिए कारागार पहुंचे। वहां तमाम सेनानियों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद उन्होंने पाया कि कारागार में हर साल होने वाला विशेष कार्यक्रम इस बार नहीं हुआ है। यहीं से लेकर उनका गुस्सा भड़क उठा।

लापरवाही के आरोपियों पर होगी कार्रवाई : डीएम
अल्मोड़ा। डीएम नितिन सिंह भदौरिया ने कहा कि पूर्व में प्रशासन ने इस आयोजन को लेकर बैठक भी ली थी, लेकिन संबंधित अधिकारियों की ओर से लापरवाही बरती गई है। उन्होंने कहा कि अगस्त क्रांति के मौके पर हर साल होने वाले कार्यक्रम को इस तरह से अनदेखा कर दिया गया। इस मामले में जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई की जायेगी।

हमारे स्वतंत्रता सेनानियों का है यह अपमान : डिप्टी स्पीकर
अल्मोड़ा। डिप्टी स्पीकर रघुनाथ सिंह चौहान ने कहा कि यहां ऐतिहासिक जिला कारागार में स्वतंत्रा संग्राम सेनानियों का बड़ा अपमान हुआ है। हर साल यहां अगस्त क्रांति पर विशेष कार्यक्रम होता रहा है। यहां स्कूली बच्चे बड़ी संख्या में आते थे। यहां अंग्रेजी हकूमत से लोहा लेने वाले वीर सेनानी बंद रहे थे। उनकी यादें इस जिला कारागार से जुड़ी हैं। अगस्त क्रांति पर जेल परिसर में कोई भी कार्यक्रम नहीं करान बड़ा अपराध है।

About dheeraj kumar

Check Also

राप्रावि कठुपड़िया के गरीब छात्र—छात्राओं को वितरित की स्टेशनरी

Post Views: 27 अल्मोड़ा। मनोरमा डबराल जन कल्याण समिति द्वारा राजकीय प्राथमिक विद्यालय कठुपड़िया के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Creative News Express

FREE
VIEW