Monday , September 24 2018
Breaking News
Home / Uttarakhand / Almora / 16 सितंबर से चौ​बटिया में इंडो-यूएस करेंगे संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास

16 सितंबर से चौ​बटिया में इंडो-यूएस करेंगे संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास

अत्याधुनिक हथियार संचालनं, युद्ध रणनीतियों एवं आतंकवाद से निपटना रहेगा अभ्यास का एजेंडा
रानीखेत/अल्मोड़ा। भारत-यूएस रक्षा सहयोग से रानीखेत के चैबाटिया में इंडो-यूएस संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण युद्ध अभ्यास 2018 का चैदवां संस्करण सोलह सितंबर से होने जा रहा है। दो सप्ताह तक चलने वाले इस युद्धा अभ्यास में यूएस के करीब 350 सैंनिक शिरकत करेंगें। संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण युद्ध अभ्यास में खासतौर पर दोनों देशों की सेनाएं आतंकवादियों के खिलाफ अभियान, आधुनिक हथियारों के कुशल संचालन सहित सैन्य अभ्यास कर एक दूसरे से युद्ध रणनीतियाॅ साझा करेंगे।  यह जानकारी भारत सरकार रक्षा मंत्रालय के पीआरओ कर्नल अमन आनंद ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर अवगत कराते हुए कहा कि इंडो-यूएस संयुक्त सैन्य अभ्यास 2018 का आयोजन जिले के रानीखेत (चैबाटिया) में 16 सितंबर से 29 सितंबर तक होगा। उन्होंने बताया कि भारत-यूएस रक्षा सहयोग के हिस्से के रूप में संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण युद्ध अभ्यास 2018 का यह 14 वां संस्करण होगा सैन्य अभ्यास दोनों देशों द्वारा वैकल्पिक रूप से होस्ट किया गया। संयुक्त युद्ध अभ्यास 2018 एक ऐसे परिदृश्य का अनुकरण करेगा जहां दोनों राष्ट्र संयुक्त राष्ट्र चार्टर के तहत पहाड़ी इलाके में विद्रोह और आतंकवाद के माहौल के खिलाफ संघर्ष करेंगे। दोनों देशों के सैनिक संयुक्त रूप से एक कल्पित लेकिन यथार्थवादी सेटिंग में आतंकवादियों के खिलाफ एक अभियान चलाएंगे। पिछले कुछ वर्षों में दोनों देशों ने इस संयुक्त अभ्यास के दायरे और सामग्री को क्रमिक रूप से बढ़ाने का फैसला किया है। व्यायाम युद्ध अभ्यास 2018 एक डिवीजन मुख्यालय आधारित कमांड पोस्ट व्यायाम, एक इन्फैंट्री बटालियन को फील्ड प्रशिक्षण अभ्यास और दोनों देशों के विशेषज्ञों द्वारा पारस्परिक हित के मुद्दों पर चर्चा करेगा। दोनों सेनाओं के पास सक्रिय काउंटर विद्रोह और काउंटर आतंकवाद के संचालन में एक बड़ा अनुभव है और इस तरह के विविध पर्यावरण में एक-दूसरे की रणनीति और अभ्यास साझा करना बेहद मूल्यवान है। यह अभ्यास दो लोकतांत्रिक देशों की सेनाओं के साथ एक साथ प्रशिक्षित करने और एक-दूसरे के समृद्ध परिचालन अनुभवों से मिलकर एक महान कदम है। नवीनतम अभ्यास दोनों देशों की ताकतों के बीच अंतःक्रियाशीलता बनाने में मदद करेगा।

 

About dheeraj kumar

Check Also

जनपद में पहली बार 20 अक्टूबर से शुरू होगा अल्मोड़ा महोत्सव, कुमाऊं कमीश्नर ने की तैयारियों की समीक्षा

Post Views: 147 अल्मोड़ा। उत्तराखण्ड सरकार की पहल पर अल्मोड़ा जिले में पहली बार अल्मोड़ा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Creative News Express

FREE
VIEW