Monday , August 20 2018
Breaking News
Home / कविता

कविता

कविता

कविता : मेरी तरफ से युग पुरुष को श्रद्धा सुमन….

आपकी मृत्यु पर मैं कुछ भी लिख नही पाया मुझे मालूम है आप मर नही सकते आपकी मौत की सच्ची खबर जिसने उड़ाई थी वो झूठा था वो आप कब थे अटल कभी मरा करते है क्या मेरी स्मृति में आपका 96 का वो पहला भाषण तैर रहा है जो …

Read More »

कविता : यादों में रहोगे अटल जी !

जो है अटल पर्वत पहाड़ जैसा, मां भारती का सच्चा सेवक। विशाल व्यक्तित्व बरगद के पेड़ जैसा, यादों में रहोगे अटल जी, न होगा कोई तुम जैसा। जो है अटल… बोलने से पहले सोचते थे कि कोई ना नाराज मुझसे, हृदय में समा जाते थे अटल हर व्यक्ति के, अटल …

Read More »

कविता : विकास का पहिया

जा रही 11 अगस्त को काठगोदाम से देहरादूनी। पहल कर रहे राज्य सभा सांसद अनिल बलूनी।। उद्घाटन समारोह में रेल मंत्री आएंगें। विकास के पहिये को हरी झंडी दिखा ट्रेन को दस डिब्बों की बनाना है। काठगोदाम से देहरादून को जाने को मनाना है। कुछ वातानुकूलित कुछ गैर वातानुकूलित डिब्बों …

Read More »

मानवता के दीप जलाएं

हम तो सदा ही मानवता के दीप जलाते हैं,  उदास चेहरों पर भी सदा मुस्कराहट लाते हैं, हार मानकर  बैठे जो कठिन राहों को देख, हौंसला बढ़ाकर उनको भी चलना सिखाते हैं, कर देते पग डगमग कभी उलझनें देखकर, मन में साहस लेकर हम फिर भी मुस्कराते हैं, मिल जाये साथ …

Read More »

कविता…….चले लेखनी ऐसी

चले लेखनी सदा ही ऐसी, अंधियारा ही मिट जाये, फैला दो प्रकाश सदा तुम, कोहरा जिससे छंट जाये, सत्य पथ पर रहें अडिग हम, साहस से सदा ही डट जायें, चले लेखनी सदा ही ऐसी, अंधियारा ही मिट जाये,…. सच्ची लेखनी के प्रभाव से , सिंहासन भी हिल जाये, बिनते …

Read More »

कविता : कीर्ति

किसी एक की नही है कीर्ति, इसका है अनन्त विस्तार, ये है अदभुत विशाल, मैदानों में खिलाड़ियों की, संगीत में संगीतकार की, कभी तबला कभी ढोलक कभी सितार की, कभी गायकार की, होती है ये कीर्ति, कभी बचपन में ही मिल जाती है, कभी योवन में पुरूस्कार बनकर आती है, …

Read More »
Creative News Express

FREE
VIEW