Friday , November 16 2018
Breaking News
Home / कलमकार

कलमकार

कलमकार

व्यंग्य : मी टू वर्सेज यू टू

चारों ओर मी टू का हाहाकार मचा हुआ है। किसी से भी पूछ लो, बच्चा तक बता डालेगा मी टू चल रिया है। फोक-वोग दूर-दूर तक नहीँ दिखाई दे रिया। पुरुष जाति दशहत में है। कब किधर से किसके पुराने पाप उघड़ जाएं कोई नहीँ जानता। कब मी टू का …

Read More »

आज भी व्याप्त है भ्रष्टाचार रूपी दशानन का अत्याचार

आज हम सभी भले ही सच्चाई की जीत का जश्न मनाने को तैयार हों, किन्तु वास्तव में केवल यह हमने एक मात्र परंपरा के रूप तक ही सिमित रख दी है। सोचा जाय तो हमने कभी भी भगवान श्री रामचन्द्र जी के आदर्शों पर चलने की कोशिश या कभी कल्पना …

Read More »

कविता : हार जीत के इस खेल में

मानव क्यों भयभीत है हार जीत के इस खेल में। अपने कर्तव्य पथ पर कर्म कर तू हार-जीत के खेल में।। जीवन की अपेक्षा—उपेक्षा से ऊपर उठ जा इस हार जीत के खेल में तुझे लौटकर आना होगा अपना कर्म पथ दिखाना होगा। किंचित ना भयभीत हो कभी जीवन के …

Read More »

व्यंग्य : बापू के चौथे बंदर का हड़कम्प

बापू के चौथे बंदर ने भयंकर हड़कम्प मचाया हुआ है। चारों तरफ उसी की तूती बोल रही है। लोग उस पर फिदा हैं। बापू का ये बंदर लेटेस्ट हैं। ट्रेंड में हैं। ये बापू का पाला हुआ नहीं है, बल्कि बापू के जाने के बाद इसका लालन-पालन हुआ है, लेकिन …

Read More »

21 सितम्बर विश्व शांति दिवस पर विशेष : असीम उर्जा और शक्ति प्रदान करती है शांति

शांति शक्ति का प्रतीक है। एक ऐसी शक्ति जो हमें असीम ऊर्जा से भर देती है। जो हमारे अन्तःकरण में सकरात्मक विचारों का स्त्रोत प्रस्फुटित करती है। हमारे भावों को पावन करती है। शांति के द्वारा ही शुचिता के विचार पोषित होते हैं। शांति अहिंसा के लिए उद्वेलित करती है। …

Read More »

वीरखम्भ और कत्यूरी समय के मंदिरों से जुड़े हुए क्षेत्र ‘डुंगरी गांव‘ की ऐतिहासिकता

संपादक की कलम से- अल्मोड़ा प्रागैतिहासिक काल से जुड़ा हुआ स्थान है। प्रागैतिहासिक समय से जुड़ा होने के साथ-साथ चंद-कत्यूर शासकों से जुड़ा हुआ भी स्थान है। आज भी बीते हुए इतिहास को हम बीहड़ जंगलों में पा रहे हैं, जिनकी जानकारी हमारे जनसमाज को अभी भी नहीं है। डाॅ. …

Read More »

अल्मोड़ा के प्रख्यात साहित्यकार डॉ. रमेश चंद्र शाह को मिलेगा सर्वोच्च भारत भारती सम्मान, गृह क्षेत्र में हर्ष की लहर

सीएनई न्यूज नेटवर्क। उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान के वर्ष 2017 के पुरस्कारों की घोषणा के बाद से उत्तराखंड के साहित्य प्रेमियों में हर्ष की लहर है। संस्थान का सर्वोच्च भारत भारती सम्मान भोपाल के साहित्यकार और मूल रूप से गंगोला मोहल्ला अल्मोड़ा निवासी डॉ. रमेशचंद्र शाह को दिया जाएगा। इसके …

Read More »

झीलें, तालाब, कलकल करती नदियां, ऐतिहासिक देव मंदिर, ऊंची पर्वत श्रृंख्लायें ! यह है देव भूमि उत्तराखंड !

— दिनेश भट्ट — उत्तराखंड को देव भूमि कहा जाता है और उत्तराखंड के झरने, वादियां और तीर्थ स्थल पर्यटकों का मनमोह लेते हैं। इसी वजह से यहां पर्यटकों का विशेष रूझान रहता है। हालांकि 9 नम्वर 2000 को उत्तराखंड उत्तर प्रदेश से अलग होकर नया राज्य बना था। पहले …

Read More »

कलमकार : भुवन बिष्ट को साहित्य हिंद वीर सम्मान

रानीखेत। मौना रानीखेत निवासी भुवन बिष्ट को जनचेतना साहित्यिक सांस्कृतिक समिति बीसलपुर पीलीभीत द्वारा उत्कृष्ट रचनाओं व साहित्य साधना, निरंतर लेखन के लिए साहित्य हिंद वीर सम्मान से सम्मानित किया गया है। जनचेतना साहित्यिक सांस्कृतिक समिति द्वारा स्वतंत्रता दिवस पर आयोजित अखिल भारतीय काव्य सम्मेलन में समिति के अध्यक्ष कौशल …

Read More »

कविता : मेरी तरफ से युग पुरुष को श्रद्धा सुमन….

आपकी मृत्यु पर मैं कुछ भी लिख नही पाया मुझे मालूम है आप मर नही सकते आपकी मौत की सच्ची खबर जिसने उड़ाई थी वो झूठा था वो आप कब थे अटल कभी मरा करते है क्या मेरी स्मृति में आपका 96 का वो पहला भाषण तैर रहा है जो …

Read More »