Wednesday , December 12 2018
Breaking News
Home / Accident / बागेश्वर फूड प्वायजनिंग : दही में ही दोष था या जल्दीबाजी में फैलाया जा रहा रायता

बागेश्वर फूड प्वायजनिंग : दही में ही दोष था या जल्दीबाजी में फैलाया जा रहा रायता

हल्द्वानी। फूड प्वायजनिंग के कारणों पर से घटना के तीन दिन बाद भी पर्दा नहीं उठ सका है। लोग अपने—अपने के आधार पर अलग अलग खाद्य पदार्थों को इस हिला देने वाले हादसे का कारण मान रहे हैं। सबसे ज्यादा आरोप दही पर लग रहे हैं जिससे विवाह समारोह में रायता बनाया गया। कुछ लोग दाल या भात को भी शक ​की नजर से देख रहे हैं। यह बात तो शत प्रतिशत सत्य है कि दावत में विषाक्त भोजन ही इस हादसे के लिए जिम्मेदार है, लेकिन जब तक मृतकों की बिसरा रिपोर्ट नहीं आ जाती और पीड़ितों के रक्त तथा खाद्य पदार्थों की सेंपल रिपोर्ट नहीं आ जाती तब तक कुछ भी कहना जल्दबाजी के सिवाय कुछ नहीं होगी।
बात की जाए दही की जो प्रदेश से बाहर की डेयरी में निर्मित थी। यदि यह दही विषाक्त थी तो उसे दिन प्रदेश के अन्य स्थानों पर भी यही दही बिक्री के लिए मार्केट में उतारी गई होगी। उन जगहों से इस तरह की शिकायत क्यों नहीं आई, और यदि दही में वैक्टीरिया था तो रायता भोजन में अमूमन सबसे कम मात्रा में खाया पेय होता है। तो उससे इस स्तर की फूड प्वायजनिंग होना संभव दिखाई नहीं पड़ रहा है। यह बलग बात है कि एक दो लोगों का कहना है कि उन्होंने ​दावत में सिर्फ रायता ही पीया था और वे भी बीमार हो गए।
अब बात करें पूरी, दाल या भात की तो यह भी संभव है​ कि इन चीजों को सुरक्षित रखने के लिए अधिकांश घरों में कीटनाशक का प्रयोग किया जाता है और उस खाद्यान्न को साफ करने में कोई चूक संभव है। इसके अलावा कुछ लेागों का कहना है कि रायता बना कर तांबे के बर्तन में रखने से भी वह विषाक्त हो जाता है। लेकिन इसके लिए वैज्ञानिक राय लेना ही उचित होगा। बने हुए भोजन में विषैले जीव के गिरने की संभावना से भी इंकार नहीं किया जा सकता है लेकिन इतनी बड़ी दावत में एक या दो बड़े बर्तनों में रखे भोजन से काम नहीं चलता, फिर दूसरी खेप में बने भोजन में विष कहां से आया।
फिलहाल दही शक के दायरे में तो आती है लेकिन बिना किसी वैेज्ञानिक परीक्षण के उसे ही दोषी ठहरा देना उचित नहीं होगा। देखें अेस्ट रिपोर्ट कब आएंगी। इस बीच यह समझ नहीं आ रहा है कि उल्टी दसत के पीड़ितों के अलावा गंभीर रूप से बीमार हुए लोगों का इलाज चिकित्सक किस आधार पर और किस दवाई से कर रहे हैं।

About umesh pandey

Check Also

हादसा : पनुवानौला के पास पेड़ जा टकराई मैक्स, कई घायल

Post Views: 233 पनुवानौला/अल्मोड़ा। यहां पनुवानौला से अल्मोड़ा को आ रहा एक टैक्सी मैक्स वाहन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *